Visitors have accessed this post 42 times.

जलेसर : तहसील क्षेत्र में जहां एक ओर प्रदेश की योगी सरकार प्रशासन को सख्त से सख्त निर्देश दे रही है गेहूं की बिक्री करने को किसानों को कोई दिक्कत ना आए केंद्रों पर भीड़ भाड़ ना हो किसानों को समय से भुगतान किया जाए लेकिन तहसील जलेसर क्षेत्र में सब कुछ उल्टा नजर होता दिखाई दे रहा है योगी सरकार की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं मामला गांव नगबाई निवासी राजेश यादव ने बताया है कि 146 कुंतल गेहूं की बिक्री करनी हैं क्रय केंद्र महानमई पर लेकिन प्रशासन के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही और सत्यापन के लिए तहसील जलेसर में दर्जनों चक्कर लगाने के बावजूद भी लेखपाल कोई भी सुनवाई नहीं कर रहे एक दूसरे के ऊपर टालम टोल कर रहे हैं लेखपाल, नगवाई के किसान राजेश यादव ने यह भी बताया लगभग 50 किसान ऐसे भी हैं जिन्हें 10 दिन से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है लेकिन अधिकारी अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे किसान राजेश ने बताया कि अगर तहसील मैं अधिकारियों ने सुनवाई नहीं की तो अब डीएम एटा से शिकायती पत्र दिया जाएगा वही महानमई क्रय केंद्र पर किसानों का आरोप है कि क्रय केंद्र पर इस समय सचिव के दर्शन तक नहीं हो रहें सचिव अपने एटा निवास पर ही रहते हैं गेहूं बिक्री के लिए किसान बहुत ज्यादा परेशान है एक तो देश में कोरोनावायरस बुरी तरह परेशान कर रहा है ऊपर से अधिकारी भी अपनी मनमानी मे कोई कसर नही छोड़ रहे हैं ऐसे में गेहूं की बिक्री नहीं हुई तो बहुत बड़ा नुकसान हो जाएंगा और किसान आत्महत्या करनें को मजबूर हो जाएंगा किसान गरीब परिवारों का भरण पोषण कैसे होगा एटा डीएम के कड़े निर्देशों के बावजूद भी अधिकारी के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही अब देखने वाली बात यह होगी एटा प्रशासन क्या कार्रवाई करेंगा लापरवाह अधिकारियों पर क्या किसान का गेहूं खरीदा जायेगा या सत्यापन किया जाएगा किसानों का अब तो ये आने वाला वक्त ही बताएगा या लापरवाह अधिकारियों पर शिंकजा कसा जाएंगा।

रिपोर्ट : मोहित शर्मा

यह भी पढ़े : जाने क्यों शव यात्रा मे राम नाम का नारा लगाया जाता है।

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave