Visitors have accessed this post 57 times.

सिकंदराराऊ : रेलवे मार्ग पर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में विश्व हिंदू परिषद द्वारा बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें सौरों जी शूकर क्षेत्र में पंचकोसी परिक्रमा लगाने के लिए आग्रह किया गया। सोरों जी भगवान भगवान वराहा की अवतरित भूमि है। हिरण्याक्ष राक्षस के द्वारा पृथ्वी को समुद्र के अंदर ले गया ,उस समय भगवान विष्णु ने वाराह रूप में अवतरित होकर उस राक्षस का वध किया तथा पृथ्वी माता को मुक्त कराया। सोरों शूकर क्षेत्र के अंतर्गत 60 किलोमीटर परिधि में आने वाला क्षेत्र वाराह माना जाता है। यह एक पुण्य क्षेत्र है। भगवान भागीरथ तपस्या कर माता गंगा को लाने लाए थे तथा भगवान सूर्य ने जिस स्थान पर तपस्या की वह आज भी सूर्यकुंड के नाम से जाना जाता है। सोरों जी की तीर्थ यात्रा के लिए पूरे भारतवर्ष से लगभग 7,00000 लोग यात्रा करने आते हैं ।हरिद्वार को छोड़ कर के सोरों जी में ही हरि की पौड़ी है। इसकी महिमा अनंत है । हिंदू संस्कृति को जीवंत रखने के लिए हमें अपने मान बिंदुओं को स्थापित कर उनका संरक्षण करना आवश्यक है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने संकल्प लिया है कि सोरों शूकर क्षेत्र की पंचकोशी परिक्रमा में ग्राम -ग्राम नगर -नगर से बसों के द्वारा पहुंचकर सहभागिता करेंगे।
प्रांतीय धर्म जागरण संयोजक दिनेश कुमार लवानिया ने नगर के गणमान्य लोगों की एक बड़ी संख्या में बैठक की तथा अपने निजी वाहनों , किराए द्वारा वहां पंचकोसी परिक्रमा में सम्मिलित होने के लिए आह्वान किया। सिकंदराराऊ क्षेत्र से 5 बस ले जाने के लिए विपिन वार्ष्णेय ने तय किया। सभी धर्म प्रेमी सज्जन 4 दिसंबर 2022 को प्रातः 9:00 बजे स्टेडियम सोरों जी पहुंचेंगे तथा सभी उस पंचकोसी परिक्रमा में सहभागिता करेंगे।
इस अवसर पर उपस्थित प्रवीण वार्ष्णेय नगर संघचालक, गोविंद कुमार विभाग प्रचारक ,मुनेंद्र कुमार नारायण जिला प्रचारक , विपिन कुमार, नीरज वैश्य , मीरा माहेश्वरी, आरती त्रिवेदी, सुमन मल्होत्रा , बृजेश सिंह चौहान , सुभाष कुमार प्रधानाचार्य, गिरीश पाल सिंह , राजेंद्र कुमार, राम प्रताप सिंह चौहान , राजेंद्र मोहन सक्सेना , प्रदीप गर्ग , निशांत पाराशर , रामकिशन जिला कार्यवाह, भानु सक्सेना एवं अनेक कार्यकर्ता बंधु उपस्थित रहे।

vinay

यह भी देखें :-