Visitors have accessed this post 59 times.

सिकंदराराऊ : हिन्दी दिवस के शुभ अवसर पर भाईचारा सेवा समिति के तत्वावधान में विराट कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह राजकमल पब्लिक स्कूल में आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि वेद सिंह चौहान उपजिलाधिकारी ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। जिसकी अध्यक्षता नीलम सिंह राठौर ने की और संचालन शायर आतिस सोलंकी ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वेद सिंह चौहान उपजिलाधिकारी व विशिष्ट अतिथि के रूप में नरेन्द्र सिंह जादौन निदेशक जिला सहकारी बैंक लिमिटेड अलीगढ़ हाथरस, प्रमुख उद्योगपति जयपालसिंह चौहान, सुनहरी लाल यादव प्रधान अगसौली, समाजसेवी रविबाबू बघेल,मीरा माहेश्वरी , विजयवीर सिंह अध्यक्ष शिक्षक संघ, शैलेन्द्र मिश्रा बदायूं रहे। कार्यक्रम के प्रेरक मोहित कुमार मोनू प्रदेश मीडिया प्रभारी भाईचारा सेवा समिति, श्रीमती साधना यादव अध्यक्ष सहकारी संघ लिमिटेड अगसौली व राजकुमार सिंह ने आभार व्यक्त किया ।
हिन्दी दिवस पर देश विदेश में हिन्दी की सेवा करने वाले डॉ ओमकार असि.प्रोफेसर राजकीय महाविद्यालय जलेसर व डॉ नीलम असि.प्रोफेसर बीडीएम कन्या महाविद्यालय शिकोहाबाद एवं तीस वर्षों से हिन्दी की सेवा करने वाले हास्य कवि देवेन्द्र दीक्षित शूल, शिक्षा व साहित्य के क्षेत्र में सराहनीय योगदान हेतु परवीन बेगम, डॉ शमशाद अहमद व शायर आतिश सोलंकी को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में आमन्त्रित सभी मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथियों, समाजसेवियों कवियों को आयोजक भाईचारा सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश यादव संघर्षी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हरपाल सिंह यादव एवं समाजसेवी नरेन्द्र सिंह जादौन के द्वारा शांल, फूलमालाओं व स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित भी किया गया।
कवि सम्मलेन में सरस्वती वंदना अब्दुल कदीर’जिया ने पढ़ी ।
संचालन कर रहे शायर आतिश सोलंकी ने पढ़ा –
दर्द नहीं जीवन में फिर जीना कैसा
अश्क नहीं पीने को पीना कैसा…
आगरा से पधारी कवयित्री ऋषि रंजना गौड़ ने पढ़ा
तिरहौ धरौ है मोर मुकुट कन्हाई के…
जलेसर से पधारे कवि विष्णुकांत अशोक ने पढ़ा
बेटियां बेटों से हरगिज़ कम नहीं होती
है ये वो दौलत कभी जो कम नहीं होती
आगरा से पधारी कवयित्री स्मृति गौड़ ने पढ़ा
हिन्दी सज गई रे मेरे, भारत की पहचान…..
एटा से पधारे कवि सतेन्द्र निर्झर ने पढा
हिन्दी भाषा विश्व की,सभ्य शिष्ट अभिजात……
अलीगढ़ से पधारे कवि जाहिद अली राहत ने पढ़ा
तेरे दिल की अदालत में पेश होना चाहता हूं…….
गज़लकार अब्दुल कदीर जिया ने पढ़ा
गर ईश्वर के नाम बहुत है
भक्ति के आयाम बहुत है….
इसके अलावा कवयित्री हास्य कवि सुभाष सनकी एटा, हास्य कवि पंकज पण्डा, कवि अवशेष मानवतावादी, उन्नति भारद्वाज, शायर नाजिम बिलरामी , संतोष पौरुष ने भी काव्यपाठ किया।
कार्यक्रम में सुधा गुप्ता, मीना माहेश्वरी, दीप्ति शर्मा, रामवीर सिंह बघेल, मुकेश कुमार, डॉ विष्णु यादव, रिंकू यादव, ठाकुर धीरु सिंह, समाजसेवी बबलू सिसौदिया,चेतन शर्मा, प्रमोद कुमार, संजय खान आदि की प्रमुख उपस्थिति रही।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें :-