Visitors have accessed this post 95 times.

हाथरस। जायंट्स ग्रुप का हाथरस का 45 वां समारोह एवं महान दिवस का आयोजन स्थानीय राजमोहन गेस्ट हाउस इगलास रोड पर किया गया। समारोह में निवतर्मान अध्यक्ष जायन्ट मदन मोहन वाष्णेय द्वारा पिछले सत्र में ग्रुप द्वारा किए गए कार्यों के लिए सभी सदस्यों को धन्यवाद दिया एवं उनका अभिनंदन किया गया। निवर्तमान सत्र के प्रशासनिक निदेशक मनोज कुमार अग्रवाल ने सत्र में किए गए सेवा कार्यों की सूची सदन के सम्मुख प्रस्तुत की तत्पश्चात् निवतर्मान अध्यक्ष ने ग्रुप का काॅलर वतर्मान सत्र के अध्यक्ष डा. राजकमल दीक्षित को पहनाया। जायंट्स यूनिट 5 की ग्रुप डायरेक्टर श्रीमती सीमा वाष्णेय के द्वारा वतर्मान सत्र के निदेशक मंडल को शपथ ग्रहण कराई गई साथ ही वतर्मान अध्यक्ष को शपथ ग्रहण कराई गई। वतर्मान अध्यक्ष के द्वारा अभी तक किए गए कार्यों का विवरण सदन के सम्मुख प्रस्तुत किया और बताया की आगे आने वाले समय में भी जायंट्स ग्रुप ऑफ हाथरस के द्वारा विभिन्न सेवा कार्यों का संपादन किया जाएगा। महान दिवस आयोजन के अंतगर्त अध्यक्ष डा. राजकमल दीक्षित के द्वारा नगर के पांच गणमान्य नागरिकों को उनके द्वारा उनसे संबंधित क्षेत्रा में किए गए विशिष्ट सेवा कार्यों के लिए सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वाले महानुभावों में डा. रंगेश शर्मा, डा. श्रीमती दीपा, निस्वार्थ सेवा संस्थान के सुनील अग्रवाल, चार्टर्ड अकाउंटेंट पंकज कुमार अग्रवाल एवं अपना घर से जुड़े राकेश अग्रवाल थे। महान महान सप्ताह के अंतगर्त 17 सितंबर से ग्रुप द्वारा लगातार सेवा कार्य किये गये हैं। जिसमें रक्तदान, मंदिर भंडारे में खाद्य सामग्री का सहयोग, गौशाला में गायों के लिए हरे चारे का सहयोग, बागला महाविद्यालय में वृक्षारोपण अभियान एवं मंदिर परिसर में दशर्नाथिर्यों की सुविध हेतु पंखों की व्यवस्था की गई। सभी कायर्क्रमों में केंद्रीय कमेटी मेंबर बृजमोहन शर्मा, पूर्व फेडरेशन अध्यक्ष अशोक कुमार अग्रवाल फेडरेशन की उपाध्यक्षा श्रीमती गुंजन दीक्षित, यूनिट डायरेक्टर श्रीमती सीमा, ग्रुप के प्रशासनिक निदेशक नवल किशोर वाष्णेय एवं सभी सदस्यों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। समारोह में यूनिट 5 के सभी ग्रुप के अध्यक्ष एवं प्रशासनिक निदेशक उपस्थित रहे। कायर्क्रम में चीफ प्रोजेक्ट कोआडिर्नेटर पुनीत पोद्दार एवं फेडरेशन आफीसर श्रीमती सोनल बंसल भी उपस्थित थे। समारोह का संचालन श्रीमती दीप्ति वाष्णेर्य एवं नवीन वाष्णेर्य के द्वारा किया गया।