breaking 1

Visitors have accessed this post 89 times.

सिकंदराराऊ : तहसील में संविदा पर तैनात एक कंप्यूटर ऑपरेटर ने तहसील क्षेत्र के तीन गांवों की 185 बीघा चारागाह, खेल के मैदान , बंजर की प्रतिबंधित भूमि का 23 किसानों के नाम फर्जी आवंटन कर अभिलेखों में दर्ज करने का सनसनीखेज मामला उजागर हुआ है । जांच के बाद आरोपी कर्मचारी के खिलाफ धोखाधड़ी की विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।
तहसील में कंप्यूटर ऑपरेटर पद पर संविदाकर्मी दलवीर सिंह पुत्र जयपाल सिंह निवासी मोहल्ला दमदपुरा थाना सिकंदराराऊ की नियुक्ति हुई थी। क्योंकि इसके कब्जे में तहसील के सभी अभिलेख थे। इसलिए इसे ज्ञात था कि कौन सी ग्राम सभा में जगह खाली है । इसका फायदा उठाते हुए इसने 3 ग्राम सभा भिसी मिर्जापुर, खेरिया कलां, टीकरी खुर्द में 185 बीघा चरागाह ,खेल के मैदान, बंजर भूमि बिना किसी सरकारी आदेश के अभिलेखों में दर्ज कर दी । यह कृत्य दलवीर ने बिना किसी के आदेश के किए। कुछ गांव के लोगों ने देखा कि चारागाह ,खेल के मैदान, बंजर भूमि जो कि आवंटन के लिए प्रतिबंधित होती है ,पर खेती हो रही है। इसकी शिकायत कई बार तहसील में की गई। मामले की जांच के उपरांत मामला सही पाया गया। बताया जाता है कि इस खेल में कई बड़े नाम भी शामिल रहे हैं। जांच के पश्चात राजस्व निरीक्षक रामवीर सिंह ने पूरे विवरण के साथ धोखाधड़ी की अनेक धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। उपजिलाधिकारी वेद सिंह चौहान का कहना है कि दलवीर सिंह का मामला संज्ञान में आते ही उन्हें पद से हटा दिया गया है। जांच कर अग्रिम कार्रवाई की जायेगी।

INPUT – VINAY CHATURVEDI