Visitors have accessed this post 50 times.

हाथरस : ब्रह्माकुमारीज़ “तपस्या धाम” हाथरस में आज संस्था के संस्थापक युग पुरुष, आदि पिता, पिताश्री प्रजापिता ब्रह्मा बाबा का अव्यक्त स्मृति दिवस, विश्व शांति दिवस के रूप में बड़े ही सादगी से मनाया।

आज केंद्र पर ब्रह्ममुहूर्त से ही ब्रह्मावत्स साधको ने योग तपस्या व मौन साधना की। उसके पश्चात कार्यक्रम में आये सभी मेहमानों नगर पालिका अध्यक्ष बहिन श्वेता चौधरी, जिला कृषि अधिकारी राम किशन सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी सुबोध जोशी, जिला प्रभारी राजयोगिनी सीता दीदी, प्रमुख समाजसेवी अशोक कपूर, राजयोग शिक्षिका बीके भावना बहिन, संचालक अतुल आँधीवाल, एड. कैलाश चंद्र , बी. के. सीमा बहिन आदि मेहमानों ने ब्रह्मा बाबा के छवि चित्र पर चैतन्य पुष्प व अपने शब्दों द्वारा पुष्पांजलि व श्रद्धाजंलि अर्पित की।

इस अवसर पर जिला1प्रभारी राजयोगिनी बीके सीता दीदी ने ब्रह्मा बाबा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि समय-समय पर अध्यात्मिक शक्तियों ने अवतरित होकर विश्व की नकारात्मक शक्तियों से मानवता को बचाया है। अपने त्याग, तपस्या व सेवा के बल पर समाज को नई दिशा व दशा देने का काम किया है। ऐसी ही महान विभूतियों में से एक थे दादा लेखराज जिन्होंने प्रजापिता ब्रह्माकुमारीज संस्था की स्थापना सन् 1936 में सिंध, हैदराबाद जो कि अब पाकिस्तान में है, में की थी। स्वयं निराकार ज्योति बिंदु परमात्मा ने साकार तन को माध्यम बना कर नई सृष्टि की स्थापना के कार्य निमित जिस महान विभूति को भेजा उनका नाम था ब्रह्मा बाबा। उनके संस्कार भक्ति भाव वाले और धर्म परायण के थे। उन्होंने 12 गुरु किए, उसके बाद फिर बाबा को परमात्म शक्ति का सत्य परिचय हुआ। उसके बाद ब्रह्मा बाबा ने पीछे मुड़कर नही देखा वो पूरी लगन व निष्ठा से ईश्वरीय कार्य मे लग गये, वर्तमान समय यह संस्था विशाल वट वृक्ष बन कर जगत कल्याण का कार्य कर रही है।

नगर पालिका अध्यक्ष श्वेता चौधरी ने ब्रह्मा बाबा को श्रद्वाजंलि देते हुए कहा कि संस्था के संस्थापक पिता श्री प्रजापिता ब्रह्मा बाबा ने मातृ शक्ति को आगे रख विश्व नव निर्माण कार्य किया। ब्रह्माकुमारी बहनो की त्याग तपस्या बहुत ही सराहनीय है। इनके पास आने से सुखद पलों का, पवित्रता का अहसास होता है। यहाँ आने पर ऐसा टॉनिक मिलता है कि कुछ पल के लिए सब दुःख ,तनाव व परिस्थितियां दूर हो जाती है। वास्तव में हम सभी को यहाँ आकर कुछ समय के लिए सत्संग अवश्य सुनना चाहिए, जिससे हमारे बोल व्यवहार व कर्म में मधुरता,पवित्रता आ जाए।

इस अवसर पर पजिला1कृषि अधिकारी राम किशन सिंह ने बाबा को श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि ब्रह्मा बाबा के त्याग, तपस्या, गुण, विशेषताओ को जीवन मे धारण करना एवं उनके बताए हुए मार्ग पर चलना ही सच्ची श्रद्धांजलि है। वास्तव में इनका उद्देश्य विश्व को शांति का मार्ग प्रशस्त करना है, ये ब्रह्माकुमारी बहनें श्वेत वस्त्र धारण कर शांति का संदेश जन जन तक देती है

जिला पंचायत राज अधिकारी सुबोध जोशी ने कहा ब्रह्मा बाबा ने ईश्वरीय प्रेरणा से महिलाओं को समाज में उचित मान दिये जाने , उन्हें उचित अधिकार मिलने और उनकी जागृति के लिए संगठन बनाने की ओर बाबा ने जो कदम लिये , वे अपनी प्रकार के अनूठे थे , वैसे कदम उससे पहले किसी ने नहीं उठाये थे । यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि बाबा ही सबसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने अपना सर्वस्व कन्याओं माताओं का एक ट्रस्ट बनाकर उसको समर्पित कर दिया।
समाजसेवी बहन श्वेता मिश्रा जी,रमा शंकर पचौरी जी,ने भी ब्रह्मा बाबा के लिए अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की।
कार्यक्रम में बाबा की याद का श्रदांजलि गीत “भोलानाथ इस धरा पर हुए दयाल, शिव के रथी तूने इस जग में कर दिया कमाल” सुनाकर बीके भावना दीदी ने शमां बाधकर सबकी आंखे गमगीन कर दी।
कार्यक्रम में आये अन्य सभी मेहमानों ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की।
कार्यक्रम में आए सभी मेहमानों ने अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की बी. के.सीमा बहन,बबीता बहन, मिथिलेश बहन, राधा बहन रश्मि बहन, अनीता बहन, राधे बहन, पुष्पा बहन, किरण बहन, प्रीति बहन,संगीता बहन, कमलेश बहन, हेमलता बहन, तनिष्का बहन,लक्ष्मी बहन, कजरी बहन, वर्षा बहन, सुनीता बहन,रीना बहन, पूनम बहन, जय सिंह पाल,धर्मवीर, तोताराम, राधे भाई, लकी भाई, डीडी भाई, श्री कृष्णा भाई, ओंकार सिंह, महेश भाई,संजय भाई, रामबाबू भाई, विपिन भाई ,करण भाई, बंटी भाई,मनीष अग्रवाल, ऋषभ गर्ग,वरुण अग्रवाल सादाबाद दाऊजी मुरसान वीरनगर सिकंदरा राव जिरौली सासनी जिले भर के अनेक स्थानों से भाई बहन पधारे ।