Visitors have accessed this post 79 times.

सिकंदराराऊ : महाराणा प्रताप राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण कार्यक्रम का आयोजन प्राचार्या प्रो.शैफाली सुमन के कुशल दिशा-निर्देशन में हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो. चंद्रवीर , प्राचार्य राजकीय महिला महाविद्यालय, खैर, अलीगढ़ एवं महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने समस्त प्राध्यापकों की गरिमामयी उपस्थिति में संयुक्त रूप से माँ शारदे की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलन एवं माल्यार्पण कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने की। इस सुअवसर पर मुख्य अतिथि प्रो. चंद्रवीर का परिचय, उनकी शैक्षणिक उपलब्धियों एवं सेवाकाल के वृतांत से महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं एवं कार्यक्रम में सहभागी अन्य विशिष्ट जनों को अवगत कार्यक्रम के संचालक विश्वनाथ प्रताप सिंह ने कराया। तदुपरांत कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो. चंद्रवीर का महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन और प्रो. मंजू उपाध्याय ने प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन का स्वागत बुके, पुष्प-माला और बैज लगाकर किया।
इस अवसर पर सरस्वती वंदना का गायन बी.ए.द्वितीय वर्ष की छात्रा गगन ने किया, वहीं अतिथि सत्कार में स्वागत गीत का गायन एम.ए.प्रथम वर्ष की छात्रा रवीना ने किया। वार्षिकोत्सव में छात्र-छात्राओं द्वारा लघु भारत के स्वरूप को चरितार्थ करते हुए भारतीय संस्कृति का प्रत्यक्षीकरण और संवर्धन करने वाले विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों, जैसे-गीत, कविता, नृत्य ,रंगोली आदि का भी प्रस्तुतिकरण किया गया। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने व्यापक स्तर पर सहभागिता करते हुए विभिन्न भाषाओं में गीतों का गायन, देशभक्ति से ओतप्रोत कविताओं का पाठ, विभिन्न प्रकार के नृत्य जैसे- राजस्थानी, हरियाणवी और कृष्ण भक्ति पर आधारित नृत्य किए। गीत गायन गगन (बी.ए.द्वितीय वर्ष) और रवीना (एम.ए. द्वितीय वर्ष), कविता पाठ शिवकुमार (बी.ए.द्वितीय वर्ष), नृत्य नीलम (बी.ए.द्वितीय वर्ष) ने किया। वार्षिकोत्सव के अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं के पुरस्कारों का भी वितरण किया गया, जिसमें सभी विषयों की परिषदीय प्रतियोगिताओं, सांस्कृतिक परिषद, राष्ट्रीय सेवा योजना, अमृत महोत्सव, मिशन शक्ति अभियान आदि प्रतियोगिताओं के पुरस्कारों का वितरण किया गया। पुरस्कार प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या लगभग 115 रही। वार्षिकोत्सव के अवसर पर वार्षिक आख्या का वाचन इतिहास विषय के असिस्टेंट प्रोफेसर विश्वनाथ प्रताप ने किया। वार्षिक आख्या को महाविद्यालय की कार्य- गतिवधियों एवं प्राप्त उपलब्धियों का जीवंत दस्तावेज बताते हुए उन्होंने महाविद्यालय के वर्ष भर के कार्यों से मुख्य अतिथि एवं अन्य विशिष्ट जनों को प्रत्यक्ष एवं अवगत करवाया। वार्षिक आख्या में महाविद्यालय की प्रतियोगिताओं, परीक्षाओं, ई-लर्निंग पार्क, नवीन फर्नीचर, महाविद्यालय भवन की सीढ़ियों के नवीनीकरण, महाविद्यालय में निर्माण होने वाली आधारभूत संरचना की प्रस्ताव रेखा, अमृत महोत्सव के तत्वाधान में निर्मित वाटिका आदि उपलब्धियों की विस्तृत रूप से चर्चा कीगई। खेल जगत के क्षेत्र में महाविद्यालय का सत्र 2023-24 पिछले सत्र की तरह संख्यात्मक एवं गुणात्मक रूप में ऐतिहासिक उपलब्धियाँ अर्जित करने वाला रहा, जो महाविद्यालय परिवार को गौरवान्वित करता है। इस सत्र में महाविद्यालय के छात्र दुष्यंत कुमार (बी. ए.द्वितीय वर्ष) ने अन्तर महाविद्यालयी भारोत्तोलन चैंपियनशिप के 73 किलो भार वर्ग में कुल 213 किलो वजन उठाकर सिल्वर मेडल प्राप्त किया।इसके साथ ही उन्होंने नेशनल यूनिवर्सिटी भारोत्तोलन चैंपियनशिप, चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में प्रतिभाग किया।
मुख्य अतिथि प्रो. चंद्रवीर ने छात्र-छात्राओं को आशीर्वचन देकर भविष्य में बेहतर निष्पादन के लिए शुभकामनाएं दीं। मुख्य अतिथि द्वारा महाविद्यालय के मेधावी,कर्मठ, सेवा भावना से प्रेरित छात्र शिवकुमार (बी.ए.प्रथम वर्ष) और केंद्रीय विद्यालय में सहायक अध्यापिका चयनित होकर महाविद्यालय को गौरवांवित करने वाली समाजशास्त्र विषय में एम.ए.द्वितीय वर्ष की छात्रा नीलू कुमारी को उत्कृष्ट छात्र का पुरस्कार दिया।
महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने छात्र-छात्राओं को स्वयं का जीवन प्रफुल्लित एवं आनंदित बनाए रखने के साथ-साथ स्वामी विवेकानंद के ध्येय वाक्य ‘उठो जागो लक्ष्य की प्राप्ति तक मत रुको’ का संदेश दिया।
कार्यक्रम का संचालन विश्वनाथ प्रताप सिंह ने किया।
इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रो.राम बहादुर, प्रो.मंजू उपाध्याय, डॉ. हिमांशु राय, डॉ. जितेंद्र परमार, डॉ.अज़ब सिंह, डॉ. गोविन्द अग्रवाल, बृजमोहन और अन्य विशिष्ट जन भी उपस्थित रहे।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें:-