Visitors have accessed this post 44 times.

सिकंदराराऊ : सोशल मीडिया युग में हिंदी की दिशा और दशा दोनों में ही काफी परिवर्तन हुआ है जहां हिंदी का प्रचार – प्रसार बढ़ा है वहीं हिंदी की शब्दावली कुछ विकृत हुई है ।
यह विचार उ प्र भाषा संस्थान लखनऊ द्वारा हिंदी प्रोत्साहन समिति के सहयोग से अधिवक्ता कक्षा में आयोजित सोशल मीडिया के युग में हिंदी की दिशा और दशा विषयक संगोष्ठी में विद्वानों द्वारा व्यक्त किये गये ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता समाज सेवी श्री जयपाल सिंह चौहान ने की वही संचालन समिति के अध्यक्ष देवेंद्र दीक्षित शूल ने किया। गोष्ठी में विशिष्ट अतिथि के रूप में एडवोकेट महेंद्र सिंह यादव एवं महेंद्र पाल सिंह जादौन पूर्व प्रधान अरनोट रहे ।
मां सरस्वती के छावि चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलन के बाद
आगरा से पधारे
डाॅ गया प्रसाद मौर्य रजत ने कहा कि हिंदी का निखरता हुआ रूप जो हम देख रहे हैं उसमें सोशल मीडिया एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। आज हिंदी विश्व पटल पर अपनी छाप छोड़ रही है।
वहीं वात्सल्य ग्राम वृंदावन से पधारे डॉ उमाशंकर राही ने कहा कि सोशल मीडिया ने हिंदी को गति दी है आज सोशल मीडिया के कारण ही हिंदी पूरे विश्व में अपना परचम फहरा रही है। फर्रुखाबाद से पधारे पवन बाथम ने कहा कि आज विश्व बाजार में हिंदी अपना विशिष्ट स्थान रखती है । विदेश और अहिंदी क्षेत्रों में माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी हिंदी में अपनी बात रखते हैं इससे हिंदी का मान सम्मान और भी बढ़ा है।
बिल्सी से पधारे नरेंद्र गरल ने कहा कि आज सोशल मीडिया फेसबुक ट्विटर इंस्टाग्राम व्हाट्सएप यूट्यूब टेलीग्राम के माध्यम से हिंदी का प्रचार प्रसार हो रहा है लेकिन प्रशासनिक स्तर पर हिंदी अपने प्रयोग की प्रतीक्षा कर रही है ।
हाथरस के अनिल बौहरै ने कहा कि हमारी हिंदी आज सभी भाषाओं की अपेक्षा आगे है वह माथे की बिंदी बन गई है।
वहीं हिंदी प्रोत्साहन समिति के अध्यक्ष देवेंद्र दीक्षितशूल ने कहा कि सोशल मीडिया से हिंदी का प्रचार प्रसार तो बढ़ा है किंतु शब्दों में कुछ विकृति भी आई है। हिंदी भाषी लोग भी अपनी बात अंग्रेजी में टाइप करते हैं वह गलत है उन्हें हिंदी में लिखने का प्रयास करना चाहिए।
कार्यक्रम के संयोजक डॉ सौरभ कांत शर्मा ने सोशल मीडिया पर लिखते समय सावधानी रखने का सुझाव दिया और उपस्थित सभी के प्रति आभार व्यक्त किया ।
गौरी शंकर गुप्ता नोटरी, डाॅ शरीफ अली, ओम प्रकाश सिंह एडवोकेट एवं डॉ सतेद्र भारद्वाज ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
इस अवसर पर बार एसोसिएशन के सचिव प्रमोद कुमार बघेल, अशोक शर्मा एड,हुकम सिंह बघेल एड, मुरारी लाल शर्मा एड, शिव कुमार सक्सेना एड, हरपाल सिंह यादव, अरुण दीक्षित एड, कल्लू सिंह कुशवाहा एड, राधेश्याम यादव एड, अरविंद भारद्वाज, बृजेश पाठक नोटरी, कुलदीप पचौरी ,राम खिलाड़ी यादव ,रामबिरेश यादव, के एल जैन एड ,भगवान सिंह एड, हरिप्रसाद बघेल ,अजय यादव, जगबीर सिंह पूर्व प्रधान, श्रीनिवास मुनीम आदि मौजूद थे।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें:-