breaking 1

Visitors have accessed this post 37 times.

सिकंदराराऊ : उप जिलाधिकारी ने भगदड़ के दौरान 121 लोगों की मौत के मामले में डीएम को अपनी जांच रिपोर्ट सौंप दी है।
उपजिलाधिकारी ने डीएम को सभी रिपोर्ट में कहा है कि एटा रोड स्थित ग्राम फुलरई मुगलगढी के दक्षिण दिशा में श्री नारायण साकार हरि का प्रवचन सत्संग कार्यक्रम नियत था। जहां वह भी मौजूद थे । सत्संग के पंडाल में लगभग 2 लाख से अधिक की भीड़ उपस्थित थी। नारायण साकार हरि उर्फ भोले बाबा लगभग 12:30 बजे पंडाल में पहुंचे और 1 घंटे तक कार्यक्रम चला। इसके उपरांत नारायण साकार हरि उर्फ भोले बाबा पंडाल से निकलकर एटा की ओर जाने के लिए हाईवे पर आए तो जिस रास्ते से भोले बाबा निकल रहे थे उसे रास्ते की ओर सत्संगी महिलाएं, पुरुष और बच्चे आदि उनके दर्शन व चरण स्पर्श एवं आशीर्वाद स्वरुप उनकी चरणरज लेकर अपने माथे पर लगाने लगे तथा जीटी रोड के किनारे एवं बीच में बने डिवाइडर पर काफी अधिक संख्या में दर्शन के लिए पहले से लोग खड़े थे जो डिवाइडर से कूद कूद कर बाबा के दर्शनार्थ उनके वाहन की ओर दौड़ने लगे तो बाबा के साथ उनके निजी सुरक्षा कर्मी एवं सेवादारों द्वारा बाबा के पास भीड़ न पहुंचने की स्थिति में भीड़ के साथ स्वयं ही धक्का मुखी करना शुरू कर दिया जिससे कुछ लोग नीचे गिर गए । तब भी भीड़ नहीं मानी और अफरा तफरी का माहौल उत्पन्न हो गया। जिसके कारण भीड़ राहत की सांस लेने के लिए कार्यक्रम स्थल के सामने खुले खेत की तरफ सड़क की दूसरी ओर भागी जहां सड़क से खेत की ओर उतरने के दौरान ढालनुमा जगह होने के कारण अधिकांश लोग फिसल कर गिर गए। इसके बाद पुनः उठ नहीं सके और भीड़ उनके ऊपर से होकर इधर-उधर भागने लगी । जिसमें कई महिलाएं व पुरुष व बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गए । उप जिलाधिकारी द्वारा मौके पर उपस्थित राजस्व एवं पुलिस सुरक्षा कर्मियों द्वारा घायल लोगों को एंबुलेंस एवं मौके पर उपस्थित संसाधनों से घटनास्थल के आसपास स्थित अस्पतालों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिकंदराराऊ भिजवाया गया। जहां 89 श्रद्धालुओं को चिकित्सक द्वारा मृत घोषित कर दिया गया एवं कुछ श्रद्धालुओं को जनपद एटा में उपचार हेतु भेजा गया। जहां चिकित्सक द्वारा 27 श्रद्धालुओं को मृत घोषित किया गया । इस प्रकार मृत्यु की संख्या 116 हो गई। घायलों का अस्पतालों में उपचार चल रहा है।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें:-