Visitors have accessed this post 653 times.

जिसका शुभारंभ मुख्य अतिथि राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित शिक्षक व भाईचारा सेवा समिति के राष्ट्रीय संरक्षक सुभाष चन्द्र शर्मा,राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश यादव संघर्षी एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हरपाल सिंह यादव, तथा राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अरविंद यादव, कथावाचक समर चैतन्य ने दीपप्रज्वलित कर किया। अध्यक्षता बरिष्ठ कवि बलवीर सिंह पौरुष ने की व संचालन शायर शिवम कुमार आज़ाद ने किया। पुरदिल नगर के कवि सत्यप्रकाश शर्मा सत्य की सरस्वती वंदना के बाद एटा से आये वरिष्ठ कवि विश्राम सिंह यादव ने सुनाया-

कविता कविता करते करते एक कवि का नाम हो गया ।
कविता तुलसी सी पावन हुई कवि भी शालिग्राम हो गया ।।

वरिष्ठ कवि बलवीर पौरुष ने सुनाया-

ममुल्क तेरा मुरीद हो जाता ।
कारगिल पर शहीद हो जाता ।।

शायर शिवम आज़ाद ने यू शेर पढा-

तुम्हारे वतन में लहू बह रहा है;
हमारे लहू में वतन बह रहा है ।।

कवि विवेकशील राघव ने सुनाया-

जब भी सूरज कहीं ढला होगा ।
एक दीपक कहीं जला होगा ।।

इनके अतिरिक्त हास्यकवि पंकज पण्डा, भक्ति कवि अवनीश यादव एवं युवा कवि कन्हैया पलतानी आदि ने काव्यपाठ करके समाँ बाँध दिया । आये हुए समस्त कवि एवं अतिथियों का आयोजक संजय सिंह राष्ट्रीय संयोजक भाईचारा सेवा समिति, नरोत्तम सिंह यादव अध्यक्ष सहकारी समिति सि.राऊ व राजेश यादव अध्यक्ष सहकारी समिति अगसौली ने स्वागत सम्मान किया । वहीं संयोजन भाईचारा सेवा समिति के संस्थापक महेश संघर्षी एवं समाजसेवी हरपाल सिंह यादव ने किया । इस मौके पर अरविन्द कुमार यादव,गौतम सिंह,शिवसिंह,सिलैटी सिंह, सुखपाल सिंह,देवेन्द्र कुमार,अजय पाठक,मनोज प्रधान अगसौली,राजेश यादव,आनंद वर्मा, मनोज सरिता,सुरेश सैनी,वीरेन्द्र सिंह,जाकिर भारती, रामपालसिंह,पुष्पा देवी, मिथलेश देवी, विनीता,साधना सिंह, मंजू यादव, सीमा कुमारी आदि लोगों ने भाग लिया है।

INPUT : Arving yadav

यह भी देखे : वृंदावन के निधिवन का रहस्य जिसे सुन आप हैरान रह जाएंगे

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp