Visitors have accessed this post 31 times.

(रिपोर्ट: शैलेन्द्र बाबू) जनपद के समस्त प्रधान संघ के पदाधिकारी व ग्राम प्रधानों ने जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर जिलाधिकारी को संबोधित 7 सूत्रीय ज्ञापन अपर जिला मजिस्ट्रेट को सौंपा। जिसमें ग्राम प्रधानो की प्रमुख मांगें क्रमशः 1-राशन कार्डों की फीडिंग नियमानुसार होने तथा आवेदन प्रधान व सचिव द्वारा हताक्षरित हो 2-प्रधानों द्वारा उपभोग प्रमाण पत्र जारी करने से पहले ग्राम कोटेदार को राशन की उठान की अनुमति न दी जय 3-शौचालय के लिए वेश लाइन सर्वे सूची 2011 को निरस्त कर2017-18 में सर्वे सूची को लागू करने 4- ज़िले के समस्त ग्राम प्रधानों को ग्राम सम्पत्ति रजिस्टर एक सप्ताह में उपलब्ध करने एंव कार्य योजना में स्ट्रीट लाईट को अनिवार्य रूप से शामिल किया जाये 5- ग्राम पंचायतों को शौचालय की धनराशि लक्ष्य के अनुरूप दी जाए जिससे सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट समयानुसार पूर्ण कराया जा सके 6- जनवरी से मनरेगा श्रमिकों को मज़दूरी नही दी गयी जिससे श्रमिकों व ग्राम प्रधानों में विवाद बना रहता है जिससे मनरेगा कार्यों पर प्रभाव पड़ता है जिसके सम्बन्ध में उचित कार्यवाही की जाये 7-ग्राम पंचायतों में होने वाले पक्के निर्माण कार्यों में शामिल होने वाली सामग्री जैसे सीमेंट ईंट मोरंग आदि बाज़ार भाव के अनुसार दी जाये जिससे की ग्राम पंचायतों का विकास युद्धस्तर पर कराया जाना संभव हो आदि मांगपत्र का ज्ञापन दिया। तो वहीं प्रधान संगठन जब (DPRO)व(CDO)से अपनी बात कहने गए तो अधिकारी अपनी कुर्सी छोड़कर भाग गए तथा प्रधान संगठनों की बात सुनने को तैयार नही हुए जबकि ज़िले के समस्त ग्राम पंचायतों में 30 या 35 शौचालय का निर्माण लक्ष्य पूरा हो चूका है जिसका पेमेंट अभी तक नही मिला है तथा जबतक अधिकारी शौचालय निर्माण में खर्च हुए धनराशि का भुगतान नही करते है तो प्रधान अपनी जेब से कहाँ तक निर्माण कराये अधिकारी प्रधानों पर बे वजह दबाव बनाते हैं जो प्रधान संगठन सहन नही करेगा की बात की।
जिलाधिकारी को ज्ञापन देने के अवसर पर शाहिद खान प्रधान संघ अध्यक्ष गैंसड़ी हरि श्याम सिंह तुलसीपुर अब्दुल मोइद जिलाध्यक्ष सौरभ त्रिपाठी ज़िला प्रभारी अब्दुल मतीन खां रेहरा रामपाल यादव श्रीदत्तगंज सत्यदेव पाठक बलरामपुर सलाहुद्दीन खां गेंडास कृष्णबिहारी यादव पचपेड़वा सहित ज़िले के 9 ब्लाक प्रधानसंघ अध्यक्ष व ग्रामपंचायत पदाधिकारी उपस्थित रहे ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here