Visitors have accessed this post 56 times.

उत्तर प्रदेश के बरेली में मजदूरी करने जा रही आसनसोल निवासी विधवा को उसके 5 साल के मासूम बच्चे के साथ बदमाशों ने लूट की और मार पिटाई कर चलती ट्रेन से फेंक दिया। बुधवार की देर रात कोलकाता-लखनऊ समर स्पेशल से सफर कर रही इस महिला को गंभीर अवस्था में ग्रामीणों ने देख एक निजी अस्पताल पहुंचाया जिसे गुरुवार की सुबह वाराणसी स्थित ट्रॉमा सेंटर रिफर कर दिया गया।

पुलिस उपाधीक्षक रेलवे वाराणसी विमल श्रीवास्तव के मुताबिक 30 वर्षीय ममता अपने 5 साल के बच्चे अजय के साथ कोलकाता-लखनऊ समर स्पेशल के जनरल कोच में बैठ कर सफर कर रही थी। यहां मह‍िला कोच के दरवाजे के पास ही बैठी हुई थी। व्यास नगर स्टेशन के पास बदमाशों ने उसे लूटने के बाद मासूम सहित ट्रेन से नींचे फेंक दिया। इस मामले में सीओ जीआरपी ने बताया कि पुलिस टीम मामले की गहनता से जांच कर रही है जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

लूटेरों की शिकार हुई ममता
लूटेरों की शिकार हुई ममता ने बताया कि वह अपने मायके आसनसोल से बरेली के नवादा को जाने के लिए ट्रेन पर अपने मासूम बच्चे के साथ चढ़ी हुई थी। ट्रेन के मुगलसराय जंक्शन से खुलने के पश्चात व्यास नगर स्टेशन के आसपास उसके साथ बदमाशों ने मारपीट की उसके पास रखें बारह सौ रुपए छीन लिए गए। बदमाशों का दिल इतना से नहीं भरा तो उन्होंने तेज रफ्तार में चलती हुई ट्रेन से उसे और उसके मासूम बच्चे को फेंक दिया। उसके पत‍ि की मौत हो चुकी है। वह क‍िसी तरह मजदूरी करके अपना गुजर-बसर कर रही है।

ग्रामीणों ने पहुंचाया अस्पताल
बताते चलें कि रात के समय रेलवे क्रॉसिंग पर करते समय जनार्दन नामक व्यक्ति को महिला व उसका बच्चा कराहता हुआ रेलवे ट्रैक के किनारे पड़ा हुआ दिखा जिन्हें उसने स्थानीय लोगों की मदद से मुगलसराय कोतवाली क्षेत्र स्थित दुल्हीपुर के एक निजी अस्पताल में इलाज हेतु पहुंचाया। महिला के हाथ पैर में ज्यादा चोट होने के साथ ही उसके मासूम बच्चे के सिर में गंभीर चोटें आई हैं जिसे देखते हुए पुलिस ने महिला व बच्चे को वाराणसी स्थित ट्राॅमा सेंटर ले जाकर भर्ती कराया जहां उसका इलाज चल रहा है ।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here