Visitors have accessed this post 67 times.

सिकंदराराऊ : स्थानीय रेलवे मार्ग पर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज के प्रांगण में मोक्षदायिनी सुपावन गीता जयंती के अवसर पर श्रीमद्भागवत गीता प्रवचन का आयोजन किया गया । कार्यक्रम का शुभारंभ श्री गोरांग दास, विनोद गुप्ता, डॉ सच्चिदानंद, विभाग प्रचारक गोविंद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, नीरज वैश्य एवं विद्यालय के यशस्वी प्रधानाचार्य सुभाष कुमार ने मां सरस्वती के छायाचित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित करके किया तथा कक्षा 6 के नन्हे-मुन्ने भैया बहनों ने श्रीमद भगवत गीता के 18 अध्याय का संस्कृत भाषा में प्रभावी प्रवचन किया। जिससे प्रांगण करतल ध्वनि से गूंज उठा। प्रांगण में उपस्थित सभी श्रोताओं ने श्रीमद्भागवत गीता के 18 अध्यायों का श्रवण एवं रसास्वादन किया। यह अब तक का एक अनूठा कार्यक्रम था । एक नई चिंतन और विचारधारा से ओतप्रोत इस कार्यक्रम को सफलता की ओर ले जाने का श्रेय विद्यालय के प्रधानाचार्य सुभाष कुमार को जाता है तथा छात्रों के परिश्रम में परिवार एवं आचार्य ने बहुमूल्य समय दिया। जिसके कारण गीता आज जन-जन के कंठ और हृदय को अनुगम्य करती हुई भारतीय संस्कृति का पोषक बनी हुई है तथा गौरंग महाराज ने श्रीमद्भगवद्गीता को श्रोताओं के बीच रखा तो श्रोता भक्ति में भावविभोर हो गए। इसी कार्यक्रम के मध्य में विद्यालय के मेधावी छात्र-छात्राओं को अतिथियों ने सम्मानित किया। जिनमें हाई स्कूल के मेधावी आदित्य कुमार, हर्ष यादव, शिवांगी यादव ,दीपांशु कुमार, रिद्धिमा माहेश्वरी, दिव्यांशु कुमार , उजाला शर्मा , कपिल कुमार, कार्तिक, सोनी प्रताप सिंह , विमल यादव एवं कक्षा 12 के अविरल राजपूत , अंशिका यादव , मोहित कुमार , राजकमल निगम, कुसुम लता, रोहित सिंह, दिव्या, जतिन कुमार , गीता यादव ,आदित्य माहेश्वरी और बबली शामिल थे ।
कार्यक्रम के शुभ अवसर पर प्रबंधक विनोद गुप्ता ने कहा के भैया बहनों का ज्ञान अद्वितीय है। इसमें उत्तरोत्तर वृद्धि होनी ही चाहिए। जिसमें विद्यालय परिवार का एवं बहनों का परिश्रम सफल है।
कार्यक्रम का संचालन आचार्य महिपाल ने किया। इस अवसर पर अनेक गणमान्य महानुभाव एवं आचार्य बंधु आचार्य बहिन उपस्थित रहे।

vinay

यह भी देखें :-