Visitors have accessed this post 73 times.

सिकंदराराऊ : गुरुवार को महाराणा प्रताप राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में वार्षिकोत्सव एवं पुरस्कार वितरण कार्यक्रम सत्र 2022-23 का आयोजन प्राचार्या प्रो.शैफाली सुमन के कुशल दिशा-निर्देशन में हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि राजकीय महिला महाविद्यालय कुरावली, मैनपुरी के प्राचार्य डॉ.संतोष कुमार, विशिष्ट अतिथि डॉ.संजीव पोरवाल एवं महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने संयुक्त रूप से माँ शारदे की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलन एवं माल्यार्पण कर किया।
इस अवसर पर महाविद्यालय परिवार के समस्त प्राध्यापक भी उपस्थित रहे। मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि का परिचय एवं उनकी शैक्षणिक उपलब्धियों से महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को अवगत कार्यक्रम के संचालक विश्वनाथ प्रताप सिंह ने करवाया।
महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने पुष्प माला और स्मृति चिन्ह भेंट कर मुख्य अतिथि डॉ. संतोष कुमार का और प्रो.राम बहादुर ने विशिष्ट अतिथि डॉ. संजीव पोरवाल का स्वागत किया। इस सुअवसर पर सरस्वती वंदना का गायन बी.ए.प्रथम वर्ष की छात्रा गगन और शोभा ने किया। वहीं अतिथि सत्कार में स्वागत गीत का गायन बी.ए.तृतीय वर्ष की छात्रा उजमा खान ने किया। वार्षिकोत्सव के दौरान भारतीय संस्कृति का प्रत्यक्षीकरण और संवर्धन करने वाले विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का जैसे-गीत, कविता, नृत्य ,रंगोली आदि का भी प्रस्तुतिकरण हुआ, जिनमें छात्र-छात्राओं ने व्यापक स्तर पर सहभागिता करते हुए विभिन्न भाषाओं में गीतों का गायन, देशभक्ति से ओतप्रोत कविताओं का पाठ, विभिन्न प्रकार के नृत्य जैसे- राजस्थानी, हरियाणवी और कृष्ण भक्ति पर आधारित नृत्य किए। गीत गायन प्राची (बी.ए. तृतीय वर्ष), काजल (बी.ए.प्रथम वर्ष) ने, कविता एवं शायरी पाठ, प्रो.राम बहादुर, शिवकुमार (बी.ए.द्वितीय वर्ष), हिमानी उपाध्याय (एम.ए.प्रथम वर्ष) ने, नृत्य शिवम (बी.कॉम.फाइनल), नीलम (बी.ए.तृतीय वर्ष), दीनू (बी.ए.प्रथम वर्ष), आकांक्षा (बी.ए.द्वितीय वर्ष), करिश्मा वार्ष्णेय (एम.ए.) ने किया। वार्षिकोत्सव के अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं के पुरस्कारों का भी वितरण किया गया। जिसमें सभी विषयों की परिषदीय प्रतियोगिताओं, राष्ट्रीय सेवा योजना, अमृत महोत्सव, सांस्कृतिक परिषद, जी.20 सम्मेलन आदि प्रतियोगिताओं के पुरस्कारों का वितरण किया गया। पुरस्कार प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या लगभग 120 रही।
वार्षिकोत्सव के अवसर पर वार्षिक आख्या का वाचन इतिहास विषय के असिस्टेंट प्रोफेसर विश्वनाथ प्रताप ने किया। वार्षिक आख्या को महाविद्यालय की कार्य- गतिवधियों एवं प्राप्त उपलब्धियों का जीवंत दस्तावेज बताते हुए उन्होंने महाविद्यालय के वर्ष भर के कार्यों से मुख्य अतिथि एवं अन्य जनों को प्रत्यक्ष एवं अवगत करवाया। वार्षिक आख्या में महाविद्यालय की प्रतियोगिताओं, परीक्षाओं, ई-लर्निंग पार्क, लगभग 1000 नवीन पुस्तकों के क्रय, एक नवीन अनुसंधान कक्ष के निर्माण, नवीन फर्नीचर, महाविद्यालय भवन की रंगाई-पुताई आदि की विस्तृत रूप से चर्चा की गई। इस वर्ष खेल जगत में भी महाविद्यालय की ऐतिहासिक उपलब्धियाँ रहीं। जहाँ महाविद्यालय के दो छात्र दुष्यन्त और आकाश पुंडीर (बी. ए.द्वितीय वर्ष) को अंतर विश्वविद्यालयी भरोत्तलन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक और रजत पदक प्राप्त हुआ, वहीं एक अन्य छात्र वीरेंद्र(बी. तृतीय वर्ष) ने गोवा में आयोजित नेशलन कुश्ती प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता। कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि डॉ. संतोष कुमार ने छात्र-छात्राओं को आशीर्वचन दिए. महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो. शैफाली सुमन ने कार्यक्रम का समापन करते हुए मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि, समस्त प्राध्यापकों एवं अन्य स्टाफ़ का आभार प्रकट किया और छात्र-छात्राओं को अग्रिम परीक्षाओं में बेहतर निष्पादन करने हेतु शुभकामनाएं दीं। आज के कार्यक्रम का संचालन विश्वनाथ प्रताप सिंह ने किया।
इस सुअवसर पर महाविद्यालय के प्रो.रामबबहादुर, प्रो.विनीता, प्रो.मंजू उपाध्याय, डॉ. हिमांशु राय, डॉ. जितेंद्र परमार, डॉ.अज़ब सिंह, डॉ. गोविन्द अग्रवाल, अरवेश कुमार, बृजमोहन उपस्थित रहे।

vinay

यह भी देखें :-