Visitors have accessed this post 125 times.

सिकंदराराऊ : सम्पूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी अर्चना वर्मा ने तहसील सिकन्दराराऊ में जनसुनवाई करते हुए संबंधित विभागीय अधिकारियों को प्राप्त शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण एवं ससमय करने के निर्देश दिए।
सिकन्दराराऊ तहसील सभागर में जिलाधिकारी अर्चना वर्मा ने उप जिलाधिकारी वेद सिंह चौहान व जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ तहसील समाधान दिवस में जनसमस्याओं की सुनवाई करके निस्तारण की कार्यवाही को अंजाम दिया। जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को समाधान दिवस में प्राप्त होने वाली शिकायतों का मौके पर जाकर मुआयना करने तथा क्षेत्रीय जनसमस्याओं को गंभीरता से लेकर उनका गुणवत्तापूर्ण ढंग से निस्तारण करके पीड़ित लोगों को राहत पहुँचाने हेतु अधिकारियों को कडे़ निर्देश दिये। समाधान दिवस में प्राप्त 90 प्रार्थना पत्रों में से 8 प्रार्थना पत्रों का मौके पर ही निस्तारण करके पीड़ित लोगों को राहत दी गई।
जिलाधिकारी ने जनता की समस्याओं को बहुत ही गंभीरता के साथ सुनने के उपरांत विभागीय अधिकारियों के माध्यम से मौके पर ही उनका निराकरण करने के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि कोई भी फरियादी समस्या के समाधान के उद्देश्य से ही सरकारी कार्यालयों में आता है। इसलिए जनता की समस्या का समाधान करना हम सबके लिए सर्वाेपरि है। कोई भी फरियादी तहसील दिवस या किसी भी कार्यालय से निराश होकर नहीं जाना चाहिए। पारदर्शिता के आधार पर संबंधित को नियमानुसार न्याय दिया जाए । जब तक फरियादी द्वारा की गई शिकायत के समाधान से संतुष्ट नहीं हो जाएं तब तक शिकायत का समाधान नहीं माना जाएगा। जिलाधिकारी ने निर्देश दिए शासन द्वारा संचालित समस्त जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जन-जन तक जनपद के हर पात्र व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए। संबंधित विभाग के अधिकारी सोशल मीडिया के माध्यम से अन्य माध्यमों से शासन की योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कराएं, जिससे कि आम आदमी भी योजना से सीधे जुड़ सकें और लाभान्वित हो सकें।
समाधान दिवस के दौरान जिलाधिकारी ने आईजीआरएस, तहसील दिवस तथा अन्य किसी माध्यम प्राप्त होने वाली शिकायतों का निस्तारण ससमय एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आईजीआरएस के माध्यम से प्राप्त होने वाली शिकायतें किसी भी दशा में डिफाल्टर की श्रेणी में नहीं आनी चाहिए अन्यथा की दशा में विभागाध्यक्ष की जिम्मेदारी तय करते हुए कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। जिलाधिकारी ने जनसमस्याओं के निस्तारण में कोताही न बरतने के लिये अधिकारियों को आगाह किया और कहा कि लापरवाही मिलने पर जिम्मेदार लोगों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने शासन की अपेक्षा के अनुसार जिले में जनसमस्याओं के समयबद्ध और गुणवत्तापूर्ण निस्तारण के लिये संवेदनशील रवैया अपनाकर पीड़ित लोगों को राहत पहुंचाने के लिये अधिकारियों से स्पष्ट अपेक्षा की। जिलाधिकारी ने प्राप्त सभी प्रार्थनापत्रों को अधिकारियों को संदर्भित कर गुणवत्ता सहित ससमय निस्तारण करके पीड़ित लोगों को राहत पहुंचाने हेतु कडे़ निर्देश दिये।
इसके अलावा सादाबाद तहसील में कुल 43 शिकायतें मेें से 2, तहसील हाथरस में कुल 67 शिकायतों में से 5 का निस्तारण हुआ तथा सासनी तहसील में कुल 22 शिकायतें प्राप्त हुईं।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, परियोजना निदेशक, क्षेत्राधिकारी पुलिस सिकंदराराऊ, डीसी मनरेगा, तहसीलदार , उप निदेशक कृषि, जिला कृषि अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, श्रम प्रर्वतन अधिकारी, जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, उपायुक्त उद्योग, खण्ड विकास अधिकारी, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका सिकंदराराऊ, एक्सईएन पीडब्लूडी, एक्सईएन विद्युत/नलकूप/सिंचाई/जल निगम आदि विभागों के अभियन्ता तथा अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

INPUT- VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें:-