Visitors have accessed this post 46 times.

फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर लोगों को ठगने वाले विदेशी गैंग के सदस्य को एसटीएफ ने गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है। आरोपित नाइजीरिया का रहने वाला है। उसके पास से मोबाइल फोन, एक सिमकार्ड व दो पासपोर्ट बरामद किए गए हैं। उस पर बेंगलुरु की महिला से एफबी पर दोस्ती कर लाखों रुपये की ठगी करने का आरोप है।

एसटीएफ के एसपी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि बेंगलुरु की रहने वाली महिला सुजाता से आरोपित ने फर्जी आईडी के जरिए कुछ माह पहले मैट्रिमनियल वेबसाइट पर जान-पहचान की थी। उसने अपना नाम मार्क पॉवेल उर्फ मॉरेल बताते हुए कहा था कि वह नॉर्वे की पेट्रोलियम कंपनी में काम करता है। उसने महिला से कस्टम क्लियरेंस और आरबीआई से डॉलर क्लियरेंस के नाम पर लाखों रुपये की ठगी की थी। जिस अकाउंट में पैसा मंगाया गया था वह गाजियाबाद के एक बैंक का था। एसटीएफ मामले की जांच में जुटी थी। जांच के बाद एसटीएफ ने आरोपित को शुक्रवार को लालकुंआ के पास से गिरफ्तार कर लिया।

ठगी के लिए दूसरों के बैंक अकाउंट का होता है इस्तेमाल
आरोपित ने एसटीएफ को बताया कि पैसा मंगाने के लिए उसके गैंग के मेंबर दूसरे लोगों के बैंक अकाउंट का इस्तेमाल करते हैं। जिसके एवज में उनके खाते में आने वाली रकम का दस फीसदी हिस्सा दिया जाता है। उसने बताया कि एटीएम से पैसा निकालने के दौरान वे लोग विशेष सावधानी बरतते हैं। एटीएम में चेहरा ढककर या हेलमेट लगाकर जाते हैं। फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाने के बाद ठगी करने के लिए मैसेंजर से ही बात करते हैं, ताकि पहचान न हो सके। फोन करने के लिए फर्जी आइडी से लिए गए सिम कार्ड का इस्तेमा करते हैं।

कई लोगों को बना चुके हैं शिकार
भारत में बहुत से नाइजीरियन युवक और युवतियां लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं। उनकी टीम में कुछ भारतीय लड़कियां भी शामिल हैं। ठगी के लिए भारतीय लड़कियों से भी कॉल कराते हैं। अपने आप को आरबीआई, इनकम टैक्स अधिकारी और कस्टम अधिकारी बताकर ठगी करते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here