Visitors have accessed this post 110 times.

सिकंदराराऊ : स्वतंत्रता सेनानी मंगल पांडेय की जयंती धूमधाम से मनाई गई। अखिल भारतीय युवा विप्र एकता मंच के तत्वाधान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें युवाओं ने मंगल पांडेय के क्रांतिकारी जीवन की सराहना करते हुए देश की आजादी में सहयोग को भी सराहा। कार्यक्रम में मंच के अध्यक्ष मित्रेश चतुर्वेदी ने कहा कि मंगल पांडेय ने अपना पूरा जीवन देश के लिए निछावर कर दिया । देश की आजादी में उनका अहम योगदान है। 19 जुलाई 1827 को उनका जन्म हुआ था। 1849 में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में शामिल हुए और 29 मार्च 1857 को मंगल पांडेय ने जानवरों की चर्बी के इस्तेमाल को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद कर दिया। अंग्रेजी हुकूमत ने 8 अप्रैल 1857 को मंगल पांडेय को बैरकपुर परेड ग्राउंड में फांसी पर लटका दिया। उनके इस बलिदान ने देश में आजादी की लड़ाई की एक नई चिंगारी को हवा दे दी थी।
संयोजक चेतन शर्मा ने कहा कि युवाओं को राष्ट्र हित में काम करना चाहिए ।राष्ट्र को मजबूत बनाने में युवाओं की अहम भूमिका होती है।
महासचिव राजीव चतुर्वेदी ने कहा कि युवा किसी भी राष्ट्र की रीढ़ होता है ।भारत युवाओं का देश है। मंगल पांडेय को अपना आदर्श मानना चाहिए।
कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित वीरेंद्र शर्मा ने की। इस अवसर पर राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा के जिला अध्यक्ष आकाश दीक्षित, रितिक पांडेय, माधव पंडित,रामकिशन दीक्षित, गोपाल दीक्षित, गिरधारी लाल, राजा पंडित, मोहन शर्मा, रोहित दीक्षित, गौरव शर्मा आदि मौजूद थे।

(अनूप शर्मा)