Visitors have accessed this post 204 times.

लिव-इन रिलेशनशिप में रहने जोडियों में धोखा, बेवफाई और व्यभिचार की आशंका कम होती है। इस रिश्ते में रहते-रहते आप विवाह के बंधन में भी बंध सकते हैं।दोनों पार्टनर अपनी जिम्मेदारियां बिना किसी दबाव के निभाते हैं।इस संबंध में समाज और कानून दोनों का नियंत्रण भी है।यह रिश्ता अधिक बोझिल नहीं होता। ऐसे में दोनों पार्टनर पूरी तरह से निजी रूप से आजाद होते हैं।लिव इन रिलेशनशिप के नुकसान
बंधन में न बंधने की आजादी तो होती है, पर लाइफ में पूरी तरह से एन्जॉय नहीं कर पाते, क्योंकि अविश्वास की भावना पनपने का डर बना रहता है।दोनों में से किसी एक के बहकने का डर अधिक बना रहता है साथ ही कमिट्मेंट तोड़ने का भी डर रहता है।कहीं आपका पार्टनर आपको छोड़ न दे इस तरह का डर मन में हमेशा बना रहता है, जिससे तनाव की स्थितियां भी उत्पन्न हो जाती है। एक दूसरे के वर्क स्टाइल या कल्चर को ना समझ पाने के कारण भी दिक्कतें आने लगती हैं।लिव इन रिलेशनशिप में आप परिवार की खुशी का मजा नहीं ले सकते। आप शुरूआत में प्यार और भावनात्मक रूप से तो जुड़ते है लेकिन धीरे-धीरे उसमें कमी आने लगती है जिससे बोरियत होने लगती है। लिव इन रिलेशनशिप के दौरान ध्यान रखने योग्य बातें
आपको अपने पार्टनर के साथ एग्रीमेंट करना चाहिए।आपको साथ निभाने के लिए ट्रेनिंग लेनी चाहिए। आपको अपने सभी अधिकारों के बारे में पता होना चाहिए। आपका पार्टनर यदि आपकी मज़बूरी या आपकी भावनाओं के साथ खिलवाड़ करता है तो उसे रोकने की आपमें क्षमता व हिम्मत होनी चाहिए। अपने पार्टनर पर पूरी तरह से भरोसा होना चाहिए व इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि कोई भी निर्णय लेने से पहले आपको उस निर्णय को जीवन भर निभाना पड़ेगा। अगर इस रिलेशनशिप के चलते यदि आपको बीच में ही अकेला रहना पड़े तो उसके लिए अपने-आपको पहले से ही मजबूत बना कर रखिए तभी आप सफल लिव इन रिलेशनशिप में रह पायेंगे।

यह भी पढ़े : रिलेशनशिप में कौन सी गलती से टूट सकते हैं आपके रिश्ते

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp