Visitors have accessed this post 164 times.

जलेसर:नगर की धार्मिक संस्था चिंताहरण सत्संग भवन एवं धर्मशाला के तत्वाधान में आयोजित होली महोत्सव के अंतर्गत काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया ।मेरठ से आई कवित्री शुभम त्यागी ने अपने संबोधन में कहा कि जग जान ले मां की ममता जिसका जिसकी नहीं है कोई सत्ता इसीलिए तो कविताओं में तेरा है गहरा रिश्ता मान करो सम्मान करो मां आओ पधारो मातृश्री तेरा ही गुणगान करूं मैं इसी क्रम में राज्य पुरस्कार प्राप्त सेवानिवृत्त शिक्षिका मथुरा के लोकगीत पर आधारित कैसे बचाएं अपने अंग को श्याम भरो डोले पिचकारी रंग को मां शारदे वीणा झनकारो मेरे सारे संकट को हारो हाय रे मानव तुझे क्या हो गया है डूब कर चुल्लू भर पानी में मर जाना है जाना है सब कुछ छोड़ कर फिर भी तू इतना दीवाना है । इसी क्रम में देवास से आए हास्य कवि पंकज जोशी आगरा से आए डॉ अंगद धारिया जलेसर के अजय जले सरी मुन्ने खां रामगोपाल मधुर श्याम बिहारी तिवारी आदि ने भी अपने गीत प्रस्तुत कर उपस्थित जनसमुदाय को तालियां बजाने के लिए मजबूर किया । कार्यक्रम की अध्यक्षता आदर्श इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ अजय मोहन शर्मा ने एवं संचालन शिक्षक रवि कांत शर्मा ने किया इस दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खंड कार्यवाह दिनेश बंसल तहसीलदार राकेश कुमार त्यागी अशोक भारद्वाज संजीव वार्ष्णेय मेडिकल बागीश कटारा अशोक भारद्वाज सोनू वार्ष्णेय पुष्पेंद्र जगदीश वशिष्ठ शिक्षक नारायण सिंह नरेंद्र सविता व्यापार प्रकोष्ठ महिला मोर्चा की अध्यक्ष शशि राठी शिक्षकों जोली गॉड राजवीर सिंह संजीव कुलश्रेष्ठ आज दर्जनों काव्य प्रेमी मौजूद थे।

इनपुट :- मोहित शर्मा

यह भी पढ़े : दुनिया के 5 अनोखे पंछी जिन्हें आपने पहले कभी नहीं देखा होगा

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp