Visitors have accessed this post 41 times.

कोरोना जैसी घातक बीमारी से हर कोई मर रहा है अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं ऑक्सीजन की कमी है लोग ऑक्सीजन के कारण अपना दम तोड़ रहे हैं। इसी बीच एक एक वाक्य देखने को मिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होने के कारण मरीजों का इलाज समय पर नहीं हो पा रहा था। मरीजों को जमीन पर तड़पता देख नगर के अहियापुर मोहल्ले का निवासी व प्राइवेट एम्बुलेंस संचालक विक्की अग्रहरि खुद अपने स्तर से आक्सीजन की व्यवस्था करके मरीजों को आक्सीजन देने लगा। विक्की के अनुसार उसने 27 से 28 मरीजों को आक्सीजन देकर उनकी जान बचायी। यह खबर जब मीडिया के जरिये सुर्खियों में आयी तो अस्पताल प्रशासन की कलई खुल गई। माना जा रहा है कि किरकिरी होने से नाराज सीएमएस ने देर शाम नगर कोतवाली में महामारी फ़ैलाने का मुकदमा दर्ज करा दिया। इस बारे में डीएम मनीष कुमार वर्मा ने कहा कि पूरे मामले की जांच करायी जाएगी। सीएमएस की इस कार्रवाई के परिपे्रक्ष्य में देखना होगा कि जिलाधिकारी व सीएमओ साहब आरोपित का सम्मान करवाते हैं या फिर उसे जेल भेजेंगे। क्या लगता है आप सभी को क्या उसने मरीजों को ऑक्सीजन देकर उनकी जान बचा कर गलती की है या कोई गुनाह क्या उसे सजा होनी चाहिए या उसका सरकार द्वारा सम्मान।

यह भी पढ़े : इन पौधों को लगाने से आपके घर के आसपास नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave