Visitors have accessed this post 75 times.

अवागढ़ : प्री प्राइमरी शिक्षण शुरू कराने की तैयारी में जुटे बेसिक शिक्षा तथा बाल विकास विभाग।
अवागढ़ ब्लॉक में हुआ ईसीसीई व रेडीनेस कार्यशाला का आयोजन।
डीसी व डाइट ने किया अनुश्रवण।
अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो अगले शैक्षिक सत्र से प्री प्राइमरी कक्षाये शुरू हो सकती हैं। अपनी इस महत्वकांक्षी योजना को अमलीजामा पहनाने की बाबत बेसिक शिक्षा एवं बाल विकास विभाग ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है। सरकार की मंशाओं को जल्द साकार करने के उद्देश्य से दोनों सम्बन्धित विभागों के संयोजकत्व में मंगलवार को अवागढ़ ब्लॉक के शिक्षको एवम आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों के लिए ईसीसी तथा रेडीनेस कार्यशाला का आयोजन किया गया। अवागढ़ के सूरज सिंह महाविद्यालय में आयोजित कार्यशाला का शुभारंभ खंड शिक्षा अधिकारी लालाबाबू द्विवेदी तथा बाल विकास विभाग की सीडीपीओ सोनी कुशवाहा द्वारा दीप प्रज्वलित तथा सरस्वती मां के चित्र पर माल्यार्पण के साथ किया गया l इस मौके पर अपने संबोधन में खंड शिक्षा अधिकारी आवागढ़ लाला बाबू द्विवेदी ने कार्यशाला मैं मौजूद सभी प्रतिभागी शिक्षक एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्तियों से कार्यशाला में बताई गई विधाओं, तौर-तरीकों को आत्मसात करें और अपने अपने विद्यालयों में अभी से इनका प्रयोग करें। जिससे कि मार्च 2023 तक सभी विद्यालय प्रेरक विद्यालय के रूप में स्थापित किए जा सके।
कार्यशाला ए आर पी साधु सिंह द्वारा कार्यक्रम की रूपरेखा एवं कार्यक्रम का उद्देश्य विषय पर विस्तृत चर्चा की गई l
एआरपी अजय शर्मा द्वारा कार्यक्रम के दूसरे सत्र में विद्यालय तैयारी मॉड्यूल के अनुसार कक्षा में समय सारणी का प्रयोग कैसे किया जाए अर्थात बच्चों की साप्ताहिक दिनचर्या कैसी हो पर द्वारा विस्तृत चर्चा की गईl
राज्यपाल पुरुस्कृत शिक्षक धीरज पाल सिंह व धनवीर सिसोदिया द्वारा बाल वाटिका /गतिविधि कक्ष कैसा हो ,कक्षा कक्ष का वातावरण प्रिंट रिच हो, बच्चे की दृष्टि रेखा के अनुरूप हो जैसे विषयों पर विस्तृत मार्गदर्शन किया गया।
एआरपी सुरेन्द्र सिंह द्वारा टी एल एम का उपयोग ,टी एल एम का निर्माण एवं टी एल एम का उद्देश्य आदि विषयों पर चर्चा की। ए आर पी मनोज यादव द्वारा प्रतिभागी अध्यापकों से मिट्टी के छोटे-छोटे टीएलएम बनवाए गए l सहायक अध्यापिका अंजली मिश्रा द्वारा गणित विषय पर कई आकर्षक t.l.m. प्रभावशाली रूप से प्रस्तुत कर कार्यशाला को रोमांचक बनाया गया l बाल विकास विभाग से आंगनबाड़ी वर्कर राजेश कुमारी, कंचन लता एवं प्रेरणा सिंह द्वारा छोटी-छोटी गतिविधियों के माध्यम से बच्चों को कैसे कक्षा कक्षों में सहज कर पढ़ाई हेतु तैयार किये जाने पर एक्टिविटी के माध्यम से प्रस्तुत किया गया l
ARP डॉ देवेश द्विवेदी द्वारा आंगनवाड़ी केंद्रों तथा विद्यालय परिसर का कायाकल्प कैसे किया जाए, विद्यालय का वातावरण बच्चों के अनुरूप कैसे बनाया जाए पर अपने संबोधन के माध्यम से विस्तृत चर्चा की l अनुश्रवण समिति के सदस्य जिला समन्वयक अरुण शर्मा, डाइट मेंटर विवेक प्रताप सिंह द्वारा कार्यक्रम का अनुश्रवण कर आवश्यक सहयोगात्मक सुझाव दिये गए।तथा अपने-अपने विद्यालयों में कार्यशाला के अनुसार सभी गतिविधियों का क्रियान्वयन करने हेतु सभी अध्यापकों को प्रेरित कियाl
कार्यशाला में सीडीपीओ सोनी कुशवाह,सुपरवाइजर मधु द्वारा अपने अपने विचार प्रस्तुत किए गएl
कार्यशाला में – जिला समन्वयक अरुण शर्मा,बीईओ लालाबाबू द्विवेदी,सीडीपीओ सोनी कुशवाह,डाइट मेंटर विवेक प्रताप सिंह, साधू सिंह,अजय शर्मा, सुरेन्द्र सिंह,मनोज यादव, डॉ देवेश द्विवेदी,धीरज पाल सिंह, धनवीर सिंह सिसोदिया, डॉ राजपाल सिंह, अंजली मिश्रा, सचिन कुमार,गौरव सिंह,सुधीर शर्मा, हेमन्त वर्मा,शनि शर्मा,राजेश सिंह आदि सहित अनेक शिक्षक एवम आंगनवाड़ी कार्यकत्रियां उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – मोहित शर्मा

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave