Visitors have accessed this post 31 times.

तमिलनाडु साइबर क्राइम पुलिस के आदेश से सीज खाता पुनः खुला
ट्विटर पर मुद्दा उछलने के बाद तमिलनाडु पुलिस को अपना आदेश वापस लेना पड़ा
कस्बे के रहने वाले समाजसेवी संदीप पाठक संघर्षी का अकाउंट स्थानीय केनरा बैंक में है। बीते मंगलवार को उनके मोबाइल पर बैंक से मैसेज आता है कि उनका खाता डेबिट सीज कर दिया गया है ।
इसके बाद संदीप पाठक ने तुरंत केनरा बैंक में ई मेल करके अपने खाता सीज होने के बाबत जानकारी मांगी । तब उन्हें ईमेल के माध्यम से बैंक ने जानकारी दी कि तमिलनाडु पुलिस के साइबर क्राइम द्वारा मिले आदेश पर खाता सीज किया गया है।

बुधवार को ही संदीप पाठक द्वारा इस मुद्दे पर तमिलनाडु पुलिस, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री, तमिलनाडु साइबर पुलिस और देश प्रदेश के अन्य उच्चाधिकारियों को टैग करते हुए ट्वीट किया गया ।

बृहस्पतिवार को संदीप ने तमिलनाडु पुलिस की वेबसाइट से तमिलनाडु पुलिस के ए आई जी का नंबर लेकर कॉल किया, फिर वहां से तमिलनाडु के डिंडीगल जिले के कप्तान को ,फिर साइबर क्राइम डिपार्टमेंट के अधिकारियों को फिर उसके बाद साइबर क्राइम के विवेचना अधिकारी को कॉल किया।

डिंडीगल जिले के साइबर क्राइम डिपार्टमेंट के पुलिस अधिकारी का फोन संदीप पाठक के मोबाइल पर आता है और उन से अनुरोध किया गया की ट्विटर पर उनके द्वारा जो शिकायत की गई है, वह तत्काल डिलीट कर दें क्योंकि वह बड़े उच्चाधिकारियों के पास मामला पहुंच गया है, जबकि वह अपने स्तर पर इस मामले को सुलझा देंगे।

संदीप पाठक ने उनके विनीत अनुरोध को मानते हुए ट्वीट डिलीट कर दिया।
जिसके बाद तमिलनाडु की साइबर क्राइम पुलिस के अधिकारी ने केनरा बैंक को उनका सीज खाता चालू करने के लिए पुनः मेल के माध्यम से आदेशित कर दिया।

संदीप पाठक ने बताया कि तमिलनाडु के डिंडीगल जिले के रहने वाले किसी व्यक्ति के द्वारा किसी खाते में गलती से पैसा ट्रांसफर कर दिया गया था, जिस खाते में वह पैसा ट्रांसफर किया गया था उस खाते से कभी पैसा संदीप पाठक के अकाउंट में भी आया था। लेकिन बिना यह जांचे कि गलत ट्रांसफर किया गया पैसा दोबारा डिंडीगल जिले के शिकायतकर्ता के पास पहुंच चुका है , संदीप पाठक का खाता सीज करने का गलत आदेश दे दिया गया। शिकायतकर्ता की मंशा संदेहपूर्ण है ।
लेकिन संदीप पहले भी कई मुद्दों को ट्वीट और अन्य माध्यम से उठा चुके हैं इसलिए वह विचलित नहीं हुए और उन्होंने इस मुद्दे पर सक्रियता के साथ कदम उठाते हुए आवाज उठाई और तमिलनाडु पुलिस के साइबर क्राइम शाखा को अपनी गलती सुधारनी पड़ी ।संदीप ने अन्य लोगों को भी इस तरीके के साइबर क्राइम से सतर्क रहने का सुझाव दिया है ।

यह भी देखें :-