Visitors have accessed this post 45 times.

सिकंदराराऊ : दिल्ली के डॉ अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर नई दिल्ली में शुक्रवार को सूर्या फाउंडेशन एंड इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन एवं आयुष मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पांचवे नेचुरोपैथी दिवस के अवसर पर एक समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें प्राकृतिक चिकित्सा के क्षेत्र में उत्कृष्ट सेवाएं देने के लिए सिकंदराराऊ के प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ सच्चिदानंद को सम्मानित किया गया।
बता दें कि डॉ सच्चिदानंद बाल काल से ही करघे से बने हुए वस्त्रों सहित सादगी की जीवन शैली एवं सर्वोदय विचार के परिवार में रहते हुए प्राकृतिक जीवन यापन किया है । उन्होंने भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा विद्यापीठ कोलकाता में डॉक्टर सरदार जसवंत सिंह के मार्गदर्शन में प्राकृतिक चिकित्सा का अध्ययन किया। सन 1967 में सनातन धर्म प्राकृतिक चिकित्सालय अंबाला कैंट हरियाणा की स्थापना की तथा मुख्य चिकित्सक पद पर कार्य किया । दिसंबर 1968 में गांधी स्मारक निधि हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश की प्रधान केंद्र पट्टीकल्याणा में ओमप्रकाश त्रिखा जी के मार्गदर्शन में प्राकृतिक जीवन केंद्र का शुभारंभ किया। सिकंदराराऊ हाथरस में मुक्ति तीर्थ प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र की स्थापना की। सेवाग्राम विश्वविद्यालय महात्मा गांधी प्राकृतिक चिकित्सा जीवन विद्यापीठ के प्रमुख सहयोगी रहे। 1996 से गांधी स्मारक प्राकृतिक चिकित्सा समिति नई दिल्ली में शीर्ष पद पर रहे तथा अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद राजघाट के वरिष्ठ उपाध्यक्ष भी हैं। उन्होंने स्वस्थ रहें, रोग से बचें, प्रश्नोत्तर गाइड, पर्यावरण अध्ययन , स्वदेशी की दिशा में स्वावलंबन की विधियां आदि पुस्तकों की रचना की है ।

vinay

यह भी देखें :-