Visitors have accessed this post 126 times.

सिकंदराराऊ : श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि बलिदान दिवस के रूप में मौहल्ला गांधीगंज में मंडल उपाध्यक्ष प्रबीन वार्ष्णेय के प्रतिष्ठान पर मनाया गया।
जिसमें मुख्य अतिथि जिला कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता ने कहा कि डा मुखर्जी ने सन 1951 में भारतीय जनसंघ की स्थापना की और दो निशान, दो विधान और दो संविधान का खुला विरोध किया। कश्मीर समस्या को लेकर बड़े संघर्ष की शुरूआत की। तत्कालिक कांग्रेस सरकार के कुचक्र के कारण डॉ. मुखर्जी जेल गए और जेल में ही संदिग्ध हालत में मां भारती की सेवा में अपना जीवन बलिदान किया। डॉ. मुखर्जी देश के सच्चे सपूत थे।
मंडल उपाध्यक्ष प्रबीन वार्ष्णेय ने कहा कि श्यामा प्रसाद ने मां भारती की सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित किया। देशहित में अनेक कार्य किए, जिन्हें भुलाना संभव नहीं है। हम सभी को उनके जीवन तथा उनके कार्यों से प्रेरणा लेनी चाहिए और यह संकल्प लेना चाहिए कि स्वहित से बड़ा देशहित होता है।
सभा में मुख्य रूप से जिला कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता, मंडल उपाध्यक्ष प्रबीन वार्ष्णेय,निकाय संयोजक मुकुल गुप्ता, बृजमोहन गुप्ता,सतीश चन्द्र वार्ष्णेय, कमलेश शर्मा, अभिषेक वार्ष्णेय, अंकित गुप्ता,भानू शर्मा आदि रहे।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें :-