Visitors have accessed this post 132 times.

TV30(रिपोर्ट- अभय ठाकुर ,कानपुर) :
प्रदेश की योगी सरकार बेटी बचाओ , बेटी पढाओ के नारे के प्रचार प्रसार में करोडों रूपये खर्च कर रही है लेकिन कानपुर की एक स्वण पदक विजेता बेटी अभी इन्तजार कर रही है सरकार की मद्द का , साथ ही बेटियों के सम्मान की लड़ाई लड़ने वाले एन जी ओ भी न जाने कहाँ गुम से हो गये है , आपको बता दे कि बात कानपुर की बेटी दीक्षा सिंह की हो रही है , जिसने कि अपनी कम उम्र में ही बॉक्सिंग में कयी स्वण पदक जीत कर कानपुर एवं यूपी का नाम रौशन किया है , साथ ही छत्तीसगढ़ में भी जा यूपी का परचम फहराया और अब दीक्षा के लिए बुलावा देश के बाहर यानि मलेशिया से आया है , लेकिन अबकी बार कानपुर की बेटी देश एवं यूपी का नाम रौशन करने के लिए जा पाने में सक्षम नहीं है क्यों कि वहां जाने का खर्च साठ हजार रूपये आ रहा है लेकिन लेकिन यह साठ हजार सरकार को उन करोणों रुपयों से ज्यादा लग रहे है जो बेटी बचाओ बेटी पढाओ के नारों को चैनलों अखबारों व दीवारों पर लिखने के लिए खर्च किये जा रहे है ,

आपको बताते चलें कि अभी पूर्व में इस गरीब परिवार ने अपने जिले एवं प्रदेश का नाम रौशन करने के लिए बेटी को छत्तीसगढ़ में आयोजित चैम्पियनशिप में भेजने के लिए गहने गिरवी रख दिये थे और कानपुर की होनहार यह बेटी वहां से भी पदक जीत कर आयी थी, आप उस गरीब परिवार की मायूसी का अन्दाजा लगाईये क्यों कि अबकी बार तो गहने भी नहीं है गिरवी रखने के लिए , वैसे तो इस कानपुर की बेटी को अभी हाल ही में लाइफ टाईम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा भी गया है , लेकिन यह अब इसकी मद्द के लिए न तो सरकार आगे आती नजर आ रही है और न ही महिला सम्मान की बात करने वाले एनजीओ , लेकिन यह बात तय है कि यदि सरकार इस बेटी के हुनर पर ध्यान दे तो कानपुर की यह बेटी पूरे विश्व में अपना नाम कर दिखायेगी ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here