Visitors have accessed this post 58 times.

प्रतापगढ़ । जनपद प्रतापगढ की कोतवाली मानधाता के गजेहडा जंगल में मिली 4 माह की बेटी को कोतवाल मानधाता महा माया प्रसाद सिह एवं चौकी ईचार्ज देल्हूपुर हरि शमभू सिंह ने प्रतापगढ जनपद गजेहडा गांव निवासी जुबैदा खातून उम्र 40 बर्ष पत्नी मुईज उददीन उम्र 45 बर्ष कोई संतान नही हैं उन्होंने बेटी को लिखा पढी से दमपती ने अपना उत्तराधिकारी बना लिया है जंगल में मिली बेटी के लिए प्रतापगढ़ जनपद के कई लोगों ने बेटी को लेने के लिए फोन के माध्यम से मानधाता कोतवाल एवं चौकी इंचार्ज देलहूपुर के पास प्रयास किया सब की बात सुनने के बाद यह निर्णय लिया गया कि जिसकी कोख में ईश्वर ने आज तक किसी बच्चे का जन्म नहीं दिया है उसी के परिवार में किलकारी सुनाई दे यह बडे सौभाग्य की बात हो गी जब कि इस बेटी के लिए राकेश प्रताप सिंह बैक वाले अपनी पत्नी मंजू सिंह जब से ये खबर इस परिवार के सज्ञान मे आई हैं तब से उन्होंने कहा कि मुझे ईश्वर ने बिटिया नहीं दिया है मैं इस बेटी को लेकर के अच्छी शिक्षा पढ़ाई लिखाई करा कर देश प्रदेश के काम आए इस सोच के साथ मैं अपने परिवार की बिटिया समझकर पालन पोषण करूंगी करूंगा लेने के लिए परिवार समेत कोतवाली मानधाता पहुंचे इस कहानी में उस समय नया मोड़ आ गया जब पहाड़पुर गजेहडा निवासी एक दंपति को ईश्वर ने गोद में एक भी बच्चे नहीं दिए हैं और उस परिवार का चिराग बुझ रहा था जब वह परिवार कोतवाली मानधाता में आ गया तो उसकी पीड़ा को देखकर राकेश सिंह समेत उनकी पत्नी मंजू सिंह एवं उनके पुत्र मोंटी सिंह ने कहा कि मम्मी यह बेटी इस दंपति की पीड़ा को देखते हुए आप इन्हें देंगी तो इनके परिवार की खुशियां लौट आएंगी बस इतने में इस परिवार ने जुबेदा खातून को बेटी देने के लिए आश्वासन दिया और राकेश सिंह के द्वारा उक्त बेटी को 1001 ₹ नगद रुपया उस बेटी के लिए देकर चरण छू कर आशीर्वाद लिया। यह घटना कोई साधारण घटना नहीं है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नाम को रोशन करने वाले राकेश सिंह के परिवार ने जो इच्छा जाहिर किया था उन्होंने कहा कि हमको तो ईश्वर ने एक पुत्र दिया है जिससे मेरे परिवार में सब कुछ ईश्वर का दिया हुआ मौजूद है आने वाले समय में ईश्वर का घर बहुत बड़ा है जब ईश्वर की मर्जी होगी तब कोई ना कोई बेटी मेरे परिवार में आ जाएगी मेरे परिवार की खुशी से जादा खुशी जुबैदा के परिवार में आज से किलकारियां गूजेगी इससे बडी खुशी और हमारे लिए कुछ नहीं हो सकती हैं

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here