Visitors have accessed this post 371 times.

दौरान जिलाधिकारी द्वारा लागू किए गए रोस्टर की खुलेआम धज्जियां उड़ाई गई।काफी संख्या में लोग खरीदारी करने पहुंच गए। खरीदारी की होड़ में लोग शारीरिक दूरी भी भूल गए। दुकानदार और खरीदारी कर रहे लोग आपसी दूरी बनाए रहने की प्रशासन की अपील के प्रति भी बेपरवाह नजर आए। जिसके चलते शुक्रवार को पुलिस ने बाजार में गस्त कर व्यापारियों को लागू किए रोस्टर की जानकारी प्रदान की ।
लॉकडाउन-4 में व्यापार छूट संबंधी केंद्र व राज्य सरकार की गाइडलाइन के आधार पर जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने मंगलवार को शर्तोें के साथ दुकानें खोलने का आदेश जारी किया था। विभिन्न प्रकार की वस्तुओं के लिए रोस्टर के मुताबिक अलग-अलग दिन निर्धारित किए गए हैं। लेकिन अभी तक रोस्टर का प्रभाव कतई देखने को नहीं मिल रहा है। सभी प्रकार की वस्तुओं के विक्रेता अपनी अपनी दुकान सुबह से ही खोल कर ग्राहकों के इंतजार में बैठ जाते हैं। लंबी अर्से से बाजार बंद होने के कारण खरीदारी के लिए ग्राहकों की भी भारी भीड़ उमड़ रही है।
गाइडलाइन के अनुसार शुक्रवार को मोबाइल शॉप, हार्डवेयर ,पेंट ,सेनेटरी, लोहे की दुकान ,साइकिल, इलेक्ट्रॉनिक एवं इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमोबाइल ,ऑटो गैरेज, प्रिंटिंग प्रेस, फर्नीचर आदि की दुकानों का खुलने का शेड्यूल है । बाबजूद इसके व्यापारियों द्वारा रेडीमेड गारमेंट्स , साड़ी वस्त्रायल , फुटवीयर आदि की दुकानें फिर भी बड़ी संख्या में खुली हुई थीं । जिस पर शुक्रवार को कस्बा इंचार्ज प्रमोद कुमार ने जब बाजार में गस्त किया तो पुलिस को आता देख व्यापारी अपनी दुकानों के शटर गिरते हुए नजर आए। कस्बा इंचार्ज ने व्यापारियों को चेतावनी दी कि वह लागू किए गए रोस्टर का सही ढंग से पालन करे अन्यथा उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। वही पुलिस के जाते ही सभी दुकाने पुनः खुल गई।

INPUT – अनूप शर्मा