Visitors have accessed this post 167 times.

गेम खेलना बच्चों के लिए मनोरंजन का एक बड़ा स्रोत होता है, लेकिन इसकी लत बच्चों के स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हो सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने कहा है कि गेमिंग डिसॉर्डर यानी इंटरनेट गेम से उत्पन्न विकार मानसिक स्वास्थ्य की गंभीर अवस्था है। डब्लूएचओ की ओर से प्रकाशित इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिजीज (आइसीडी) (एक नियमावली) के नए संस्करण “आइसीडी-11” में गेमिंग डिसॉर्डर को स्वास्थ्य की एक गंभीर अवस्था के रूप में शामिल किया गया है।

मई 2019 में आयोजित होने वाले विश्व स्वास्थ्य सम्मेलन में “आइसीडी-11” को प्रस्तुत किया जाएगा। आइसीडी स्वास्थ्य की प्रवृत्ति की पहचान और दुनियाभर में इसके आंकड़ों का आधार है। इसमें जख्मों, बीमारियों और मौत के कारणों के करीब 55,000 यूनिक कोड हैं। यह स्वास्थ्य सेवा के पेशेवरों को एक समान भाषा प्रदान करता है जिससे वे स्वास्थ्य संबंधी सूचनाओं को दुनियाभर में साझा कर सकें।

यह भी पढ़े : सुबह खाली पेट चाय पीने से होने वाले नुकसान

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp