Visitors have accessed this post 83 times.

बारिश का मौसम शुरू होते ही खुशी का ठिकाना नही रहता है. मॉनसून के शुरू होते ही ना सिर्फ गर्मी से राहत मिलती है, बल्कि भीनी-भीनी खुशबू में चाय और पकौड़े का स्वाद सिर्फ जुबान को नहीं बल्कि दिल को भी खुश कर जाता है. दिल तो खुश हो जाएगा, लेकिन सेहत का क्या. कहीं, गर्म चाय और तले हुए पकौड़े आपको बीमार तो नहीं कर देंगे. अक्सर कहा जाता है कि बारिश के मौसम में इंफेक्शन सबसे ज्यादा फैलता है. जाहिर सी बात है जब इंफेक्शन फैलेगा तो बीमारी बढ़ना लाजिमी है. इसलिए बीमारी को थोड़ा सा दरकिनार कीजिए और इस मॉनसून के मौसम में खाने में कुछ ऐसा चूज कीजिए जो ना सिर्फ हेल्थ के लिए अच्छा हो बल्कि मन को भी खुश कर जाए. इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ सब्जियों और फ्रूट्स के बारे में जिनसे आपको थोड़ा-सा परहेज करने की जरूरत है.

पत्तागोभी और पालक
हरि सब्जियों में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और विटामिन मिलता है, लेकिन मॉनसून के मौसम में इस तरह की सब्जियों से दूरी बनाकर चलनी चाहिए. इस मौसम में पालक और पत्ता गोभी में छोटे-छोटे कीड़े और उनके अंडे होते हैं इसलिए इसे खाने से बचें अगर आप इन्हें खाना चाहते हैं तो गुनगुने पानी से धोकर खाएं.

आलू और अरबी

बारिश के मौसम में इंटर स्टाइन में कमजोरी आ जाती है, इसलिए आपको खाने पर थोड़ा सा ध्यान रखने की आवश्यकता होती है. आलू जैसी सब्जी को भारतीय घरों में बेस्ट ऑप्शन माना जाता है. पकौड़े, सब्जी हर चीज में आलू फिट बैठता है, लेकिन आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि आलू पचने में बाकि सब्जियों से ज्यादा समय लेता है. इसलिए मॉनसून में आलू, अरबी जैसी सब्जियों से दूरी बनाए रखने में ही समझदारी है.

कच्चा सलाद और जूस

सलाद को हेल्द के लिए बेस्ट माना जाता है, लेकिन बारिश में इसे खाने से बचना चाहिए. कच्चे सलाद में कई तरह के कीड़े होने का डर बना रहता हैं, कोई भी सब्जी कच्चा काट कर नहीं खाये, इससे कई तरह की बिमारी होने की सम्भावना हो सकती है. फलों को भी काटकर ना रखें काटने के बाद तुरंत खा लें, इसके अलावा बाजार में बिकने वाले जूस से भी परहेज करें, वहा फलों को पहले से काट कर रखते है.

सी फूड
वारिश के मौसम में मछलियां और झीगें बच्चों को जन्म देते हैं, इसलिए हमें इनका सेवन नहीं करना चाहिए.

मशरूम
बारिश के मौसम में मशरूम खाने से भी बचें, इस मौसम में मशरूम से इंफेक्शन होने का खतरा अन्य मौसम से कहीं ज्यादा होता है.

Input soniya

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here