Visitors have accessed this post 151 times.

हाथरस : अमृत योजना के अंतर्गत हर घर को पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित कराने को लेकर राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार समाज कल्याण विभाग उत्तर प्रदेश असीम अरुण ने जिलाधिकारी रमेश रंजन के साथ ओढ़पुरा तिराहा पर बनी पानी की टंकी (जोन-4) के अतंर्गत मौहल्ला मधुगढी का औचक निरीक्षण किया।

निरीक्षक करते राज्यमंत्री असीम अरूण
निरीक्षक करते राज्यमंत्री असीम अरूण

निरीक्षण के दौरान मंत्री असीम अरुण
ने ओढ़पुरा तिराहे पर जल निगम द्वारा निर्मित पानी टंकी का निरीक्षण कर टैंक की क्षमता, जलापूर्ति की व्यवस्था, घरों में दिए गये संयोजन तथा पानी की सप्लाई के रोस्टर आदि के बारे में जानकारी की। डीएम ने जानकारी दी कि पानी की टंकी का निर्माण कार्य दिनांक 24 मार्च 2021 को पूर्ण करने के उपरान्त नगर पालिका परिषद हाथरस को हस्तगत कर दिया है। लागत 2618.79 लाख रू. है। एक अवर जलाशय बनाया गया है जिसकी क्षमता 1600 कि.ली है। एक सीडब्ल्यूआर जिसकी क्षमता 650 कि0ली0, वितरण प्रणाली 68.50 कि0मी0, राइजिंगमेन 7.20 किमी तथा 6 नलकूप लगाये गये हैं। इस परियोजना के द्वारा शहर के 06 वार्डों में पानी की सप्लाई की जानी है। पूर्व योजना के अनुसार 6044 घरों में पानी का संयोजन किया जाना था, जिसके सापेक्ष 6123 घरों में संयोजन किया जा चुका है। संयोजन का कार्य नगर पालिका द्वारा किया जा रहा है। टैंक को पूर्ण क्षमता में भरने के लिए 5 से 6 घंटे का समय लगता है।
मंत्री ने हर घर को पेयजल की उपलब्धता को लेकर मोहल्ला मधुगढ़ी में घर-घर जाकर वार्ता की तथा पानी की सप्लाई के संबंध में जानकारी की। कुछ लोगों ने बताया कि हमारे यहाँ पानी का संयोजन नहीं किया गया है। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि कहीं-कहीं पर पानी लीकेज हो रहा था। जानकारी करने पर अधिशासी अभियन्ता जल निगम आरके शर्मा ने बताया कि पूर्व कार्य योजना में शामिल न होने की वजह से संयोजन नहीं किया जा सका है। सर्वे कार्य कराया जा रहा है।