Visitors have accessed this post 58 times.

हापुुुड़ : डीजीपी कार्यालय व पुलिस कप्तान के आदेश पर भाजपा जिला महामंत्री के खिलाफ गम्भीर धाराओं में मुकद्दमा कायम हुआ है। हापुड़ कोतवाली में दर्ज मुकद्में के बाद जिला महामंत्री प्रमोद जिंदल भूमिगत हो गये है। सीओ राजेश कुमार ने बताया की कोतवाल महाबीर ने एसपी के पीआरओ संजीव शुक्ला की तहरीर व आॅडियों क्लीपिंग सुनने के बाद भाजपा नेता के खिलाफ कठोर कार्यवाही की है। एएसपी राममोहन सिंह ने कहा कि भाजपा नेता प्रमोद के विरूद्ध एसपी संकल्प शर्मा के सीयूजी नंबर पर अभद्रता करने, सरकारी कार्य में बाधा सहित हाफिजपुर थाने पर भीड़ के साथ हमला कर इंस्पेक्टर की हत्या की धमकी देने आदि धाराओं में एफआईआर दर्ज हुई है। बता दे कुछ समय पूर्व पत्रकारिता में सक्रिय रहे प्रमोद अचानक राजनिति में आकर भाजपा के हो गये। प्रदेश में योगी सरकार आने पर भाजपा के जिला महामंत्री बन गये। बताया जाता है कि रविवार रात्रि 8 बजे भाजपा जिला महामंत्री ने एसपी के मोबाइल पर हाॅफिजपुर के मामले में एक सिफारिशी फोन किया था। फोन पीआरओ ने रिसिव किया तो प्रमोद ने गुस्से में कहा कि एसपी से कह देना की स्याना की तरह हाॅफिजपुर में भी क्या बबाल कराओगे। वो भीड़ के साथ 200-250 लोगों को लेकर आने का घेराव कर इंस्पेक्टर को सबख सिखा देगें। इससे पूर्व महामंत्री ने हाॅफिजपुर प्रभारी सुभाष गौतम को गांव मीरपुर माजरा में दुष्यंत नामक आरोपी के खिलाफ दर्ज मुकद्में में शिफारिश की थी। ना मानने पर नेता ने इंस्पेक्टर को भुगतने  व स्याना जैसा कांड की पुर्नावती को चेताया। वहीं भाजपा नेता प्रमोद का कहना है कि हाॅफिजपुर क्षेत्र में गौकशी व अन्य मामलों में पार्टी कार्यकर्ताओं पर फर्जी मुकद्में दर्ज हुए है। मैने कहा था कि क्या आप यहाँ भी स्याना बनवाना चाहते है। 58 हजार रूपये की रिश्वत लेकर पहले एक मामले में आरोपी छोड़ा गया था। अब फिर पार्टी कार्यकर्ता को बेवजह गिरफ्तार किया गया है। मामला केन्द्र व प्रदेश में सत्ताधारी पार्टी के नेता से जुड़ा होने के कारण पुलिस अधिकारी ज्यादा बोलने को तैयार नहीं है। भाजपा के जनपदीय सांसद राजेन्द अग्रवाल, कवर सिह तंवर व वीके सिंह का कहना है कि प्रकरण पर पार्टी ही निर्णय लेगी। वो अपने स्तर से कुछ नहीं कह सकते जबकि मंगलवार को सदर विधायक विजयपाल आड़ती व पार्टी जिलाध्यक्ष विकास अग्रवाल, नगरपालिका परिषद चेयरमैन परफुल्ल सारस्वत आदि नेताओं ने एसपी से मुलाकात कर झूठा मुकद्मा वापस ले हाॅफिजपुर थाना प्रभारी के खिलाफ कार्यवाही करते हुए हटाने की मांग की है। वहीं काग्रेस के पूर्व विधायक गजराज सिंह का कहना है कि किसी भी व्यक्ति को अमन चैन खराब करने का अधिकार नहीं है। एसपी के फोन पर धमकी गलत है।

रिपोर्ट : प्रमोद शर्मा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here