Visitors have accessed this post 46 times.

TV30 INDIA (रिपोर्ट-विकाश जौहरी): गर्मियों का मौसम आने वाला है। ऐसे में हर किसी को फलों का राजा आम का बेसब्री से इंतजार होता है। छोटे क्या बड़े लोग भी बड़े चाव से इसका सेवन करते है। किसी को कच्चे आम पसंद होते है तो किसी को पीले-पीले पके हुए आम।

बेमौसम आपको पीले-पीले आम ही मिलते है। जिन्हें देखकर आपको लगता है ये सबसे परफेक्ट आम है। अगर आपकी भी ऐसी सोच है तो इस खबर को पढ़कर आप अपनी सोच को बदल देगे। जी हां पीले आम आपकी सेहत के लिए किसी जहर से कम नहीं है। जानिए क्यों…

ऐसे पकाएं जाते है आम

इस समय आम को पकाने में चीने से आने वाले घातक केमिकल वाले पाउडर का यूज किया जाता है। जिससे यह जल्दी पक जाते है। यह एक चीनी कर्बाइड होता है क्योंकि देसी कार्बाइड के मुकाबले पाउच वाले चीनी कार्बाइड से आम जल्दी पकता है। इसलिए इसका इस्तेमाल ज्यादा किया जाता है। इससे आम में टेस्ट नहीं आता है लेकिन यह सेहत के लिए बहुत ही खतरनाक होता है।

हो है स्वास्थ्य के लिए खतरनाक
केमिकल से पकने के कारण इसके सभी विटामिन्स और पोषक तत्व खत्म हो जाते है। जिसके कारण यह खतरनाक होता है। इसका सेवन करने से अस्थमा, कैंसर, सांस संबंधी समस्या, पेट में समस्‍या, आंखों पर असर, आंतों पर असर, कफ की शिकायत, ब्रेन में सूजन जैसी खतरनाक बीमारी हो जाती है। इसलिए हमेशा मौसम के हिसाब से ही फलों का सेवन करना चाहिए।

ऐसे करें केमिकल और नेचुरल तरीके से पके आमों की पहचान
केमिकल

  • जो केमिकल से पके होते है वह 2 दिन में काले हो जाते है।
  • इनका रंग नेचुरल रंग से अलग होता है।
  • फल का स्वाद किनारे पर कच्चा और बीच में मीठा होता है।
  • अगर आम बहुत ज्‍यादा चमकदार और कड़ा लग रहा है तो इसका मतलब कार्बाइड से पका है ऐसा आम को खरीदने से बचें।

नेचुरल आम

  • फल का रंग एक समान होता है।
  • टेस्ट पूरे पल का एक जैसा होता है।
  • यह जल्द खराब नहीं होता है।

अनुष्का शर्मा से शादी करने के बाद विराट कोहली ने खोला अपने जीवन का ये राज

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here