Visitors have accessed this post 34 times.

बरसात के मौसम में स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है, क्योंकि यह मौसम अपने साथ बहुत सारी बीमारियां लाता है। इस मौसम में तापमान में बार-बार बदलाव और उमस के कारण बीमारियां फैलाने वाले बैक्टीरिया और वायरस तेजी से पनपते हैं। इस कारण पाचन क्रिया ठीक नहीं रहती। इंफेक्शन, एलर्जी, सर्दी-जुकाम, डायरिया, फ्लू, वायरल जैसी पानी और हवा से होने वाली बीमारियां हमें घेरे रखती हैं। इसलिए इस मौसम में जरूरी है कि हम साफ-सफाई और अपने आहार का विशेष ख्याल रखें। अगर आप इस मौसम में फलों का सेवन कर रहे हैं तो ध्या रखें इन बातों का..

इन बातों पर ध्यान दें

मानसून के दौरान तरबूज, खरबूजा जैसे जलीय फलों के सेवन से बचें। नम प्रकृति के होने के कारण इनमें बैक्टीरिया होने की आशंका होती है, जो शरीर में सूजन पैदा करते हैं।

मानसून में गैर-मौसमी फलों के सेवन से बचें। इनमें अक्सर दिखाई न देने वाले कीड़े पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए घातक होते हैं।

हमेशा ताजे फलों का सेवन करें। मुरझाए हुए, दागी, कटे-फटे फलों के सेवन से बचें, क्योंकि ऐसे फल विषाक्त हो जाते हैं और आपकी पाचन प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं।

छिलका होने के बावजूद खाने से पहले फलों को अच्छी तरह जरूर धोएं, क्योंकि इनमें संक्रमण फैलाने वाले जीवाणु चिपके होते हैं, जो शरीर में पहुंच कर बीमारियों को न्यौता देते हैं।

कटे फल या फ्रिज में रखे बचे फल का सेवन न करें।

जहां तक हो सके बाजार में मिलने वाले फलों के जूस से बचें। सड़क किनारे बिकने वाले कटे फल के सेवन से भी बचें।

Input soniya

यह भी पढ़े:

आपका वजन इन 5 गलतियों के वजह से बढ़ता है

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here